जागरण संवाददाता, अंबाला शहर: गेहूं की आवक में एक दम काफी तेजी आ गई है। इसके कारण अंबाला शहर की अनाज मंडी अनाज से भरने लगी है। इतना नहीं अनाज मंडी अनाज के मुकाबले छोटी पड़ने लगी है। मजबूरी में किसानों को सेक्टर के ग्राउंड का रुख करना पड़ रहा है। इसके चलते किसानों ने रविवार को सेक्टर के साथ लगते ग्राउंड में अनाज भी डाल दिया।

बता दें कि जिला की अनाज मंडियों में 1 अप्रैल से गेहूं की खरीद शुरू हो गई थी। परंतु उस दौरान गेहूं की फसल पक नहीं पाई थी। ऐसे में किसानों ने अपनी गेहूं की फसल की कटाई शुरू नहीं करवाई थी। धीरे-धीरे तापमान बढ़ोतरी होने लगी और गेहूं की फसल पक गई। गर्मी बढ़ने के साथ गेहूं की कटाई भी होने लगी। जिस कारण अनाज मंडी में अब गेहूं की आवक पूरे जोर पर है।

-----

फोटो -6

गांव मदाफरा के गुरचरण सिंह ने बताया कि अनाज मंडी में कहीं भी अनाज डालने के लिए जगह नहीं रही थी। इस कारण उन्हें अपना गेहूं रखने के लिए सेक्टर ग्राउंड में ही जगह मिल पाई है और इसी ग्राउंड में अपनी गेहूं की फसल को डाल दिया है। प्रयास यही कर रहे हैं कि यही से अनाज बिक जाए।

-----

फोटो -7

सदौपुर के बलजिद्र सिंह ने बताया कि पहले आढ़तियों की दो दिन तक हड़ताल रही। ऐसे में किसानों की दो दिन तक फसल रुकी रही। अब एक दम सभी किसान अपनी गेहूं की फसल लेकर अनाज मंडी में पहुंच गए हैं। इस कारण अनाज मंडी में गेहूं डालने के लिए जगह नहीं रही है।

------

फोटो -8

धन्यौडा के किसान कप्तान सिंह ने बताया कि हड़ताल के कारण दो दिन किसानों का काम प्रभावित हुआ है। यदि दो दिन हड़ताल न होती तो मंडी में अचानक इतना अनाज नहीं आना था। हालांकि इस समय गेहूं का सीजन भी है। गेहूं एक साथ सभी जगह पर पक चुकी है, यदि समय पर कटाई न की तो नुकसान हो सकता है।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप