जागरण संवाददाता, अंबाला : कालेजों में सात सितंबर 2020 से शुरू हुई दाखिला प्रक्रिया अब अंतिम दौर में पहुंच चुकी है। अभी भी कई ऐसे कालेज हैं जिनमें काफी सीटें खाली पड़ी हैं। ऐसे में अब पोर्टल खुलने के बाद उम्मीद है कि ये सीटें भर जाएंगी। विद्यार्थी काउंसिलिग में तो भाग ले रहे हैं जबकि दो मेरिट लिस्टों में जिनके नाम शामिल नहीं हुए वे अब खुले पोर्टल के माध्यम से आवेदन तो दे सकेंगे, जबकि ओपन काउंसिलिग भी 20 अक्टूबर को खत्म हो जाएगी। इसके बाद सबसे बड़ी चुनौती ऑनलाइन क्लास शुरू करना और सिलेबस को पूरा करना होगा। इसी को लेकर कालेज अब अपनी तैयारियों में हैं।

दो मेरिट लिस्ट में जिनके नाम नहीं आए या फिर जिन्होंने आवेदन किया है और उनके कागजात वेरिफिकेशन में दिक्कत है तो वे भी इस काउंसिलिग में भाग ले सकते हैं। इसके साथ जो आवेदन कर चुके हैं वे सब्जेक्ट कंबिनेशन के साथ आगे की प्रक्रिया को पूरा करेंगे। जिन विद्यार्थियों ने 16 अक्टूबर को पोर्टल खुलने के बाद नई रजिस्ट्रेशन की है, वे भी काउंसिलिग में भाग ले सकते हैं। ओपन मेरिट लिस्ट में नाम आते ही वे दाखिला प्रक्रिया को पूरा कर सकते हैं।

--------

सिलेबस ऑनलाइन पूरा करवाना रहेगा चुनौती

कालेजों में अभी दाखिला प्रक्रिया ही चल रही है, जबकि अपने स्तर पर कक्षाएं चला रहे हैं। अभी तक शेड्यूल के अनुसार कालेजों ने ऑनलाइन कक्षाएं शुरू नहीं की हैं। शिक्षा सत्र में 180 दिनों में सिलेबस पूरा करना भी एक तरह से चुनौती रहेगी। हालांकि कालेज दावा कर रहे हैं कि उनकी तैयारी पूरी है, लेकिन अभी तक ऑनलाइन कक्षाएं, दाखिला प्रक्रिया पूरी होने तक, शेड्यूल के अनुसार चलाने से कतरा रहे हैं। माना जा रहा है कि अगली कक्षाओं में जाने वाले विद्यार्थियों में से दस प्रतिशत ड्राप आउट माना जा रहा है।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस