जागरण संवाददाता, अंबाला शहर : इंसानियत एक बार फिर से शर्मसार हुई है। जो फौजी देश की रक्षा करता रहा उसी ने आजादी के दिन साढ़े तीन साल की बच्ची से दुष्कर्म कर दिया। 15 अगस्त की घटना के दिन आरोपित की पत्नी घर से बाहर गई थी। उसी दिन इशारे से बच्ची को घर बुलाकर उसने अपने मंसूबों को सफल बनाया। गर्भवती मां ने सामाजिक ¨नदा और पारिवारिक कलह के डर से घटना छिपाए रखी लेकिन रविवार को पति को बता दी। नग्गल थाने में गए परिवार को पुलिस ने महिला पुलिस थाने का रास्ता दिखा दिया, जहां सोमवार देर रात खेम¨सह नामक आरोपित के खिलाफ केस दर्ज कर उसे गिरफ्तार कर लिया गया। बच्ची का सरकारी अस्पताल में मेडिकल कराने के बाद ड्यूटी मजिस्ट्रेट के समक्ष बयान करवा दिए गए। आरोपित को मंगलवार कोर्ट में पेश कर पुलिस रिमांड पर लिया जाएगा।

रविवार महिला से जानकारी मिलने के बाद बच्ची के पिता ने कानून की शरण ली। केस के अनुसार फौज से रिटायर्ड खेम ¨सह अपनी पत्नी के साथ गांव में रहता है जबकि पीड़ित परिवार उसका पड़ोसी है। घटना 15 अगस्त की है। परिवार अपनी दिनचर्या में व्यस्त था। बच्ची घर के बाहर खेल रही थी। उसी दौरान इशारा कर आरोपित ने बच्ची को अपने घर बुला लिया। उसके साथ गलत काम किया। एएसपी चंदर मोहन तथा महिला थाना प्रभारी सुनीता के मुताबिक मामले में मौत की सजा वाली धारा भी लगाई है। आरोपित को गिरफ्तार कर लिया गया है। उसे कोर्ट मे पेश किया जाएगा।

Posted By: Jagran