कुलदीप चहल, अंबाला

जिला के 16 स्कूल अब एक ही अध्यापक के सहारे चलेंगे, जिसने अध्यापकों की चिता बढ़ा दी है, जबकि प्रदेश में ऐसे स्कूलों की संख्या 226 है। इन स्कूलों में मात्र एक ही टीचर सभी कक्षाओं को पढ़ाएगा। खास है कि इन स्कूलों का प्रशासनिक कंट्रोल नजदीकी सरकारी स्कूल के पास होगा। दूसरी ओर प्रदेश के 46 स्कूल हैं, जिनको नजदीकी स्कूलों में मर्ज किया जाएगा। इसी को लेकर निदेशक एलिमेंट्री एजुकेश हरियाणा ने जिला जिला स्तर पर यह निर्देश भेज दिए हैं। दूसरी ओर शिक्षक भी परेशान हैं कि आखिर एक टीचर कैसे इन कक्षाओं को संभालेगा, जबकि टीचर्स को शिक्षण के साथ अन्य कार्यों में भी ड्यूटी लगा दी जाती है। यह हैं आदेश

शिक्षा विभाग के आदेशों की मानें, तो जिला अंबाला के 16 ऐसे विद्यालय हैं, जिनमें विद्यार्थियों की संख्या 10 से 25 के बीच में हैं, वहां पर एक ही अध्यापक तैनात रहेगा। इन में प्राथमिक और मिडिल स्कूल शामिल हैं। इन स्कूलों का कंट्रोल इनके नजदीकी राजकीय स्कूलों के पास रहेगा, जो एक किलोमीटर के दायरे में होंगे। यह स्कूल इन का प्रशासनिक कार्य देखेंगे। प्रदेश में ऐसे प्राथमिक स्कूलों की संख्या 175 है, जबकि मिडिल स्कूलों की संख्या 51 है। दूसरी ओर जिन प्राथमिक अथवा मिडल में विद्यार्थियों की संख्या 1 से लेकर 9 तक है, उन स्कूलों को नजदीकी स्कूलों में समायोजित कर दिया जाएगा। जिला के इन प्राइमरी व मिडिल स्कूलों में होगा एक टीचर

जिला के 13 प्राइमरी स्कूलों को एक ही टीचर के हवाले किया जाएगा। इन में राजकीय प्राथमिक विद्यालय मिर्जापुर, गोबिदगढ़, बराड़ा स्टेशन, सज्जन माजरी, अलीपुर, रामपुर, भूखड़ी, टपरियां रुलदू, ब्राह्मण माजरा, केसोपुर, शेरगढ़, धमौली ऊपरली, खेड़ागन्नी शामिल हैं। इसके अलावा राजकीय माध्यमिक विद्यालय झाड़ूमाजरा, घेलड़ी, राऊमाजरा, हुसैनी शामिल हैं। इन में भी एक ही टीचर बच्चों को पढ़ाएगा। प्रदेश के 46 स्कूल होंगे मर्ज

प्रदेश के 46 ऐसे स्कूल हैं, जिनको नजदीकी स्कूल में मर्ज किया जाएगा। इनमें विद्यार्थियों की संख्या 1 से 9 है। इन में से प्राइमरी स्कूलों की संख्या 41 है, जबकि मिडिल स्कूलों की संख्या 5 है।

---------------

फोटो नंबर :: 04

सरकार का यह आदेश टीचर्स के लिए परेशानी पैदा करेगा। एक टीचर कैसे अलग-अलग कक्षाओं को पढ़ाएगा, जबकि मिडिल स्कूल के लिए तो अलग टीचर चाहिए। कईं बार टीचर्स की ड्यूटी अन्य कार्यों में लगा दी जाती है। इससे दिक्कतें तो खड़ी होंगी।

- अमित छाबड़ा, जिला प्रधान राजकीय शिक्षक संघ अंबाला

---------------

फोटो नंबर :: 05

इस संबंध में लेटर जारी हो चुका हैं। लेटर में जो निर्देश दिए गए हैं, उसके आधार पर ही कार्य किया जाएगा।

- सुरेश कुमार, डीईओ, अंबाला