अहमदाबाद, शत्रुघ्न शर्मा। सेरेब्रल पाल्सी से पीड़ित एक 23 वर्षीय युवती के माता-पिता ने अपनी पुत्री को इच्छामृत्यु देने के लिए हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया है। उनका कहना है कि जन्म से ही असाध्य रोग से पीड़ित वैदेही केवल सांस ले सकती है और आंख से निरीक्षण कर सकती है। वह बातों को समझती जरूर है, लेकिन प्रतिक्रिया देने में असक्षम है। अदालत ने सरकार व मेडिकल टीम से इस मामले में जवाब मांगा है।

उच्चतम न्यायालय के पूर्व न्यायाधीश मार्कंडेय काटजू ने 2011 में इच्छामौत पर ऐतिहासिक फैसला देते हुए शायरी वाले अंदाज में कहा था कि मरते हैं आरजू में, मरने की - मौत आती है पर नहीं आती। मुंबई किंग एडवर्ड मेडिकल कॉलेज की पूर्व नर्स अरुणा शानबाग के लाइफ सपोर्ट सिस्टम हटाने की मंजूरी देते हुए इच्छामृत्यु को पहली बार न्यायिक रूप से स्वीकार किया था। अहमदाबाद के सोला में रहने वाले देवेंद्र राजगोर ने गुजरात हाईकोर्ट में दायर एक याचिका में बताया है कि 30 मई, 1995 को जन्म लेने के छह माह बाद ही उसके असाध्य रोग से पीड़ित होने की पुष्टि हुई। बीते 23 साल से वह इस गंभीर रोग को सहन कर रही है। वैदेही पूरी तरह असहाय है। वह बीते इन वर्षों में केवल सांस ले पाती है और आंखों से देख पाती है।

देवेंद्र के मुताबिक, वैदेही समझ सकती है पर किसी तरह की प्रतिक्रिया देने में भी समर्थ नहीं है। पुत्री की इस असहाय हालत को देखकर माता-पिता ने अब उसके लिए इच्छामृत्यु की मांग की है। न्यायाधीश एवाई कोगजे ने गुजरात सरकार व अहमदाबाद के सबसे बडे सिविल अस्पताल के मुख्य चिकित्सा अधिकारी से इस संबंध में जवाब मांगा है। हाईकोर्ट में इस मामले पर तीन अप्रैल को सुनवाई होगी। वैदेही के पिता के मस्तिष्क में ट्यूमर है, जबकि माता भी मधुमेह से पीड़ित है।

गौरतलब है कि 2011 में अदालत ने अरुणा शानबाग का लाइफ सपोर्ट सिस्टम हटाने व द्रव पदार्थ के रूप में दिए जा रहे पोषण को बंद करने को न्यायिक मंजूरी दे दी थी, जिसके बाद 2015 में उसकी मौत हो गई थी। अहमदाबाद के इस दंपत्ती ने पुत्री को इस पीड़ादायक जिंदगी से मुक्ति दिलाने के लिए यह मांग की है। उनके वकील अन्वेश व्यास ने बताया कि अदालत से वैदेही के मेडिकल एक्जामिन के लिए एक मेडिकल टीम गठित करने की मांग की गई है, ताकि इनकी इच्छा मौत पर फैसला लिया जा सके।

 

Posted By: Sachin Mishra

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप