अहमदाबाद, जागरण संवाददाता। गुजरात में बीते 24 घंटे में कोरोना संक्रमण के 1515 नए मामले सामने आए और नौ लोग काल के गाल में समा गए। राज्‍य में कोरोना से अब तक 3846 लोगों की मौत हो चुकी है। राज्‍य में 13285 एक्टिव केस हैं, वहीं कोरोना के अब तक एक लाख 95917 केस हो चुके हैं। इनमें से 178786 लोग कोरोना को मात देकर स्‍वस्‍थ हो घर पहुंच गए हैं। कोरोना पर अंकुश के लिए जहां सरकार शहरों में एक के बाद एक शहरों में कर्फ्यू लगा रही है, वहीं सरकार के ही मंत्री गणपत सिंह वसावा ने भाजपा के नवनिर्वाचित विधायक के सम्‍मान में आयोजित एक जुलूस में शामिल होकर शारीरिक दूरी के कोरोना के दिशा निर्देश की जमकर धज्जियां उडाईं।

गुजरात में कोरोना संक्रमण में अचानक आए उछाल के चलते अहमदाबाद में जहां दो दिन का कर्फ्यू लागू किया गया, वहीं सूरत, वडोदरा व राजकोट में शनिवार से ही रात्रि नौ से सुबह छह बजे का कर्फ्यू लगाया गया है। राज्‍य के कुछ शहरों में स्‍वयंभू लॉकडाउन की घोषणा भी की गई है, इनमें साबरकांठा का प्रांतिज, अरवल्‍ली का धनसूरा तथा आणंद का ओड कस्‍बा शामिल है।

केंद्रीय विशेषज्ञों की टीम ने हालत का लिया जायजा

इसी बीच, केंद्रीय विशेषज्ञों की एक टीम अहमदाबाद व वडोदरा पहुंची। यहां उन्‍होंने अस्‍पताल के चिकित्‍सकों तथा स्‍वास्‍थ्‍य विभाग के अधिकारियों से कोरोना के ताजा हालात का जायजा लिया। टीम के एक सदस्‍य डॉ सुजीत कुमार ने दीपावली व नववर्ष के बाद कोरोना के अचानक फैलने के लिए सीधे तौर पर जनता को ही दोषी ठहराया है। उन्‍होंने कहा लोग कोविड-19 की गाइडलाइन का पालन नहीं कर रहे हैं। डॉ सुजीत ने राज्‍य प्रशासन को इस मामले में क्‍लीन चिट दी है।

विजयी जुलूस निकाला

उधर, वनमंत्री गणपत सिंह वसावा भाजपा के नवनिर्वाचित विधायक आत्‍माराम परमार के विजयी जुलूस में शामिल होने गढडा पहुंचे। एक खुली जीप में सवार होकर इन नेताओं ने रैली निकाली, जिसमें भारी संख्‍या में कार्यकर्ता भी जुटे, लेकिन यहां शारीरिक दूरी का उल्‍लंघन हुआ। वहीं, मास्‍क के बिना भी कार्यकर्ता नजर आए।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस