सूरत, राज्य ब्यूरो/प्रेट्र। पुलिस ने सूरत में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे का जन्मदिन मनाने के आरोप में हिंदू महासभा के छह कार्यकर्ताओं को सोमवार को गिरफ्तार कर लिया। उधर, उपमुख्यमंत्री नितिन पटेल ने कहा है कि राज्य सरकार इस घटना को लेकर सतर्क और सभी आवश्यक कार्रवाई की गई है।

सूरत के पुलिस कमिश्नर सतीश शर्मा ने बताया कि जिले के लिम्बायत इलाके में स्थित सूर्यमुखी हनुमान मंदिर के परिसर में हिंदू महासभा के कार्यकर्ताओं ने समारोह का आयोजन किया था। उन्होंने कहा कि गोडसे के जन्म दिवस पर हिंदू महासभा के कार्यकर्ताओं ने उसके चित्र के चारों ओर दिए जलाए, मिठाई बांटी और भजन गाए। इन लोगों ने समारोह की वीडियोग्राफी की और फोटो भी खींचे।

उन्होंने कहा कि राष्ट्रपिता के हत्यारे गोडसे का सम्मान करने से कई लोगों की भावनाएं जहां आहत हुई हैं, वहीं यह कृत्य लोगों को उत्तेजित करने और शांतिपूर्ण माहौल को खराब करने की कोशिश है। गोडसे का जन्म पुणे जिले के बारामती में 19 मई, 1910 को हुआ था। तब यह बांबे प्रेसिडेंसी का हिस्सा था।

गोडसे समर्थकों को देश में रहने का अधिकार नहीं: कांग्रेस

कांग्रेस अध्यक्ष अमित चावड़ा ने इस मुद्दे पर राज्य सरकार को आड़े हाथ लेते हुए कहा कि भाजपा शासकों ने गोडसे समर्थकों को इतना बढ़ावा दिया है कि आज वह खुलेआम जन्मदिन मनाने लगे हैं। इतना सब होने के बावजूद पीएम मोदी और गुजरात के मुख्यमंत्री चुप हैं। गोडसे के समर्थक गुजरात पर कलंक हैं। चावड़ा ने कार्यक्रम से जुड़े दो वीडियो ट्वीटर हैंडल पर शेयर करते हुए कहा कि गोडसे समर्थकों को देश में रहने का अधिकार नहीं है।

जानें, किसने क्या कहा

महात्मा गांधी की आलोचना सूरज पर थूंकने के समान है। ओछी सोच वाले कुछ लोग गांधी जी का विरोध कर अपरिपक्व और निंदनीय कृत्य कर रहे हैं।

-भरत पांड्या, प्रवक्ता, गुजरात भाजपा।

---

भाजपा बताए कि वह गांधी की विचारधारा का समर्थन करती है या फिर गोडसे की। अनंत कुमार हेगड़े और प्रज्ञा ठाकुर जैसे भाजपा नेता गोडसे की विचारधारा को बढ़ावा देने में लगे। यह चिंता का विषय है।

-मनीष दोषी, प्रवक्ता, गुजरात कांग्रेस।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Sachin Mishra

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस