बोटाड, प्रेट्र/एएनआइ। गुजरात के बोटाड जिले में बुधवार को पांच-छह लोगों ने एक दलित सरपंच के पति की पीट-पीटकर हत्या कर दी।

परिवार का आरोप था कि उसे मार दिया गया क्योंकि वह एक दलित था। पुलिस का कहना है कि उस पर कुछ अज्ञात लोगों ने हमला कर दिया था, उसे इलाज के लिए अहमदाबाद सिविल अस्पताल ले जाया गया, जहां उसे मृत घोषित कर दिया गया। 

मरने से पहले रिश्तेदारों को दिए गए कथित बयान में मांजीभाई सोलंकी (51) ने बताया कि पहले उनकी मोटरसाइकिल को एक कार ने टक्कर मार दी। इसके बाद कार में सवार पांच-छह लोगों ने निर्ममतापूर्वक उनकी पिटाई की। अहमदाबाद नागरिक अस्पताल के चिकित्सकों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। मांजीभाई जालिया गांव की सरपंच गीता सोलंकी के पति थे।

इस बीच यह पता चला है कि मांजीभाई और गीता ने पिछले साल पुलिस से सुरक्षा दिलाने की मांग की थी। उन्होंने बताया था पुरानी रंजिश के कारण काठी दरबार समुदाय (ओबीसी) के कुछ लोग उन्हें नुकसान पहुंचा सकते हैं। पिछले साल जून में डीजीपी (कानून-व्यवस्था) को लिखे गए पत्र में उन्होंने कहा था कि उनके और उनके परिवार की जान को खतरा है। इसलिए, उन्हें सुरक्षा मिलनी ही चाहिए।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Sachin Mishra

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस