अहमदाबाद, जेएनएन। अहमदाबाद के हाथीजण में स्थित नित्यानंद आश्रम में बच्चों को बंधक बनाने के मामले में गुजरात पुलिस ने नित्यानंद और उसकी दो सेविकाओं प्राणप्रिया और प्रियतत्वा के खिलाफ कोर्ट में चार्जशीट फाइल की है। पुलिस ने कोर्ट में पेश की 83 पन्नों की चार्जशीट में 50 गवाहों के बयान दर्ज किए हैं। पुलिस के अनुरोध के बाद इंटरपोल ने नित्यानंद के खिलाफ ब्लू नोटिस जारी किया है। गुजरात पुलिस ने नित्यानंद के खिलाफ रेड नोटिस जारी करने के लिए प्रक्रिया भी शुरू कर दी है।

महिलाओं के साथ संबंध व अश्लील सीडी को लेकर पहले भी विवादों में रहा नित्यानंद बेंगलुरू की दो बहानों को अहमदाबाद आश्रम में लाने के बाद चर्चा में आया। लड़कियों के पिता ने अहमदाबाद पहुंचकर नित्यानंद के खिलाफ पुलिस में शिकायत दर्ज करवाई। इसके बाद पुलिस ने आश्रम में जांच की और यहां कई बच्चों को बंधक बनाने के आरोप में 20 नवंबर, 2019 को नित्यानंद की सेविकाओं प्राणप्रिय और प्रियातत्व को गिरफ्तार किया था।

दोनों सेविकाएं नित्यानंद की सूचना से बच्चों से डोनेशन मंगवाती थीं। इन बच्चों को उनके अभिभावकों से भी नहीं मिलने दिया जाता था। दोनों सेविकाएं बच्चों को डराती थीं कि माता-पिता से मिलने से गुरुद्रोह और कालभैरव का श्राप लगता था। पुलिस ने नित्यानंद के खिलाफ भी अपहरण का मामला दर्ज किया था। पुलिस ने डीपीएस स्कूल परिसर में अवैध रूप से बने नित्यानंद के आश्रम को भी बुलडोजर चलवा दिया था।

नित्यानंद शाही जिंदगी बिताने के लिए बटोर रहा था धन

नित्यानंद शिष्याओं के साथ शाही जिंदगी बिताने के लिए भारत के बड़े शहरों से धन बटोरने में जुटा था। नित्यानंद ने अमेरिका में इक्वाडोर के पास एक टापू खरीदा है। उसने इसका नाम हिंदू राष्ट्र कैलाशा रखा है। नित्यानंद यहां अपनी शिष्याओं के साथ शाही जिंदगी बिता रहा है। नित्यानंद ने कैलासा नाम से एक वेबसाइट भी बनाई है। इसमें बताया जा रहा है कि कैलासा दुनिया का पहला हिंदू राष्ट्र है।

पूरी तरह ध्वस्त कर दिया गया नित्यानंद आश्रम

दो साधिकाओं के अचानक लापता होने के बाद विवादों में आए नित्यानंद स्वामी के आश्रम को अहमदाबाद शहरी विकास प्राधिकरण ने ध्वस्त कर दिया है। यह आश्रम दिल्ली पब्लिक स्कूल परिसर में अवैध रूप से बनाया गया था। उधर, दोनों लापता साधिकाओं के वेस्टइंडीज के बारबाडोस में होने का पता चला है।

नित्यानंद स्वामी के पूर्व साधक ने बेंगलुर आश्रम से अपनी दो पुत्रियों को उनकी मंजूरी के बिना अहमदाबाद आश्रम में लाने पर विरोध जताया था। इस मामले में पुलिस शिकायत के बाद जांच हुई तो पता चला कि आश्रम डीपीएस स्कूल परिसर में गैरकानूनी तरीके से बनाया गया है। इस मामले में डीपीएस संचालकों व आश्रम संचालकों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जा रही है।

इसी बीच, अहमदाबाद शहरी विकास प्राधिकरण ने शनिवार को नित्यानंद के आश्रम पर हथौ़ड़ा चला दिया। आश्रम को पूरी तरह ध्वस्त कर दिया गया है। लापता बहनों ने हाई कोर्ट को भेजे अपने शपथ--पत्र में भारत में खुद की जान को खतरा बताते हुए यहां आने पर पुख्ता सुरक्षा की मांग की है।

अहमदाबाद आश्रम की दो संचालिका प्राणप्रिया व तत्वप्रिया अभी गुजरात में न्यायिक हिरासत में हैं। दोनों पर मासूम बच्चों के साथ मारपीट करने, बालश्रम कराने व अपहरण जैसे आरोप हैं।

गौरतलब है नित्यानंद कि आश्रम में रहने वाले बच्चों को प्रताड़ित करने व उनसे श्रम कराने की गुजरात बाल आयोग जांच कर चुका है। आयोग की रिपोर्ट में कई चौंकाने वाली बातें सामने आई हैं, जिसके चलते आश्रम के खिलाफ पुलिस में शिकायत दर्ज कराई गई है। नित्यानंद पर इससे पहले भी कई तरह के आरोप लग चुके हैं। इसकी के चलते गुजरात की पुलिस ने उन पर सख्ती की। 

गुजरात की अन्य खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

Posted By: Sachin Kumar Mishra

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस