अहमदाबाद, जेएनएन। गुजरात के केवडिया में प्रस्थापित स्टैच्यू ऑफ यूनिटी के आसपास ठेला और रेहड़ी लगाकर अपना जीवन यापन करने वाले 300 आदिवासियों को वहां से हटाने का आदिवासी समाज विरोध कर रहा है। भाजपा के सांसद मनसुख वसावा व भारतीय ट्रायब्ल पार्टी के विधायक छोटू वसावा ने इसका सख्त विरोध किया है। इन आदिवासी नेताओं ने अतिक्रमण हटाने का आदेश देने वाले नर्मदा निगम के अतिरिक्त सचिव राजीव गुप्ता की तुलना अंग्रेज अफसर से की है।

इन दोनों नेताओं को ठेला, रेहड़ी हटाने की जानकारी मिलते ही अपना अन्य कार्यक्रम स्थगित कर घटनास्थल के लिए रवाना हो गए। स्थानीय आदिवासी समाज संबोधित करते हुए इन नेताओं ने राजीव गुप्ता के इस कदम का विरोध करते हुए कहा कि वे सरकार को घटना की जानकारी देकर हालात यथावत रखने का अनुरोध करेंगे।

स्थानीय लोगों ने कहा कि भारत भवन हो या स्टैच्यू ऑफ यूनिटी इसके निर्माण में आदिवासियों की जमीन ली गई है। आदिवासियों ने इसका विरोध नहीं किया, अगर उन्हें उनके रोजगार-व्यापार से बेदखल किया जाएगा। तब वे इसके खिलाफ आंदोलन करेंगे। 

गुजरात की अन्य खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस