अहमदाबाद, जेएनएन। भाजपा के दो दिग्गज नेता यशवंत सिंहा व शत्रुघ्न सिंहा ने आरक्षण व किसानों की कर्ज माफी की मांग को लेकर अनशन कर रहे पाटीदार नेता हार्दिक पटेल से मुलाकात की। उन्होंने हार्दिक के मुद्दों को राष्ट्रीय स्तर पर उठाने की बात कही। सरकार ने पहली बार हार्दिक के स्वास्थ्य पर चिंता जताते हुए उपचार की सलाह दी। साथ ही, मध्यस्थता के लिए पाटीदारों की छह संस्थाएं पहल करने को तैयार हैं।

पाटीदार आरक्षण आंदोलन समिति के संयोजक हार्दिक पटेल का आमरण अनशन मंगलवार को 11वें दिन भी जारी रहा। मंगलवार को एनडीए सरकार के दो पूर्व मंत्री यशवंत सिंहा व शत्रुघ्न सिंहा ने भी हार्दिक से मुलाकात कर उनकी मांगों का समर्थन किया। दोनों नेताओं ने कहा कि अन्य राज्यों में किसानों के कर्ज माफ हो सकते हैं तो गुजरात में ऐसा क्यों नहीं की जा रहा, जबकि किसान कर्ज के बोझ तले दबे हैं। उन्होंने लोगों से इनके समर्थन में सडकों पर उतरने का आह्रवान भी किया।

उधर, कडवा व लेउवा पाटीदारों की छह बड़ी संस्थाएं उमिया धाम, खोडल धाम, सिद्धसर, विश्व पाटीदार आदि ने एक बैठक बुलाकर सर्वसम्मति से हार्दिक के बिगडते स्वास्थ्य पर चिंता जताते हुए कहा कि हार्दिक कहे तो वे सरकार के साथ मध्यस्थता को तैयार हैं।

राज्य सरकार के ऊर्जा मंत्री सौरभ पटेल ने भी हार्दिक के स्वास्थ्य पर चिंता जताई लेकिन साथ ही उनके आंदोलन को कांग्रेस प्रेरित बताया। सौरभ ने कहा उन्हें चिकित्सक की सलाह मानना चाहिए, सरकार ने भी आपात स्थिति के लिए आईसीयू सुविधा वाली एक वैन उनके निवास पर रखी है। उन्होंने यह भी कहा कि गुजरात सरकार किसानों के हित के लिए कई कार्य कर रही है पर विपक्ष सरकार को बदनाम करने के लिए इस तरह के आंदोलन करा रहा है।

 

Posted By: Sachin Mishra