अहमदाबाद, जेएनएन। Ahmedabad Municipal Corporation. महानगर के तेजी से विकसित हो रहे बोपल-घुमा को अब अहमदाबाद महानगर पालिका की सरहद में शामिल करेंगे। नए सीमांकन को महानगरपालिका की स्थायी समिति ने मंजूरी दे दी है। इससे अहमदाबाद का विस्तार अब 70 किलोमीटर से ज्यादा बढ़ जाएगा। अब तक 50 गांव मे शहर में समा चुके हैं।

अहमदाबाद महानगरपालिका की स्थायी समिति के अध्यक्ष अमूल भट्ट ने बताया कि फिलहाल शहर का दायरा 464 वर्ग किलोमीटर के क्षेत्र में है। नए सीमांकन के लिए राज्य सरकार को भेजे गए प्रस्ताव की मंजूरी मिलने के बाद यह बढ़कर 500 से अधिक वर्ग किलोमीटर तक पहुंच जाएगा। उन्होंने कहा कि अहमदाबाद के नए सीमांकन में तेजी से विकसित हो रहे बोपल-घुमा के अलावा नाना चिलोड़ा, कढ़वाडा, झुंडाल, कोटेश्वर, भाट गांव, अमीयापुर गांव, रिंगरोड के बीच आते खोरज, खोडियार, सनाथल, विसलपुर, असलाली, गेरतनगर, बिलासीया, रणासण, सुधड़ गांव शामिल हो जाएंगे।

उनके मुताबिक, इन क्षेत्रों के महानगरपालिका मेँ शामिल होने से यहां की प्राथमिक समास्याओं का निपटारा हो सकेगा। महानगरपालिका की स्थायी समिति की बैठक में शहर के नए सीमांकन प्रस्ताव को पारित करने के बाद अब इसे राज्य सरकार को भेजा गया है। राज्य सरकार की मंजूरी मिलने के बाद इस संबंध में अधिसूचना जारी किया जाएगा।

अहमदाबाद महानगर पालिका में भाजपा का पिछले 15 साल से शासन है। विपक्ष कांग्रेस का आरोप है कि 15 साल से शासन महानगरपालिका में भाजपा के शासन से जनता की हालत खराब हो गई है। शहर की जनता को प्राथमिक सुविधा नहीं मिल पाई है। लोगों को अभी भी टैंकरों से पानी दिया जा रहा है। गटर की सुविधा का अभाव है। रोड-रास्तों का हाल खराब है। जगह-जगह गंदगी है। 2020 में महागरनपालिकाओं का चुनाव होने वाला है। भाजपा को इस बार हार निश्चित लग रही है। इसलिए अहमदाबाद शहर का सीमांकन कर राजनीतिक फायदा उठाने का काम कर रही है।  

राजस्थान की अन्य खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

Posted By: Sachin Mishra

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस