अहमदाबाद, जेएनएन। एनसीपी नेता व पूर्व केंद्रीय मंत्री प्रफुल्ल पटेल किसानों की कर्जमाफी व पाटीदार आरक्षण की मांग को लेकर आमरण अनशन पर बैठे हार्दिक पटेल से मुलाकात की। उपवास स्थल पर पहुंचने से पहले पुलिस ने प्रफुल्ल पटेल को पुलिस ने रोका, लेकिन बाद में उन्हें जाने दिया गया।

राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के नेता प्रफुल्ल पटेल मंगलवार सुबह करीब 11 बजे एसजी हाइवे ग्रीनवुड में हार्दिक पटेल के अस्थायी आवास पर पहुंचे, जहां वे शनिवार से आमरण उपवास पर बैठे हैं। कांग्रेस के बाद टीएमसी, आरजेडी, एनसीपी, समाजवादी पार्टी आदि दल हार्दिक के समर्थन में आए हैं। कांग्रेस ने सोमवार को राज्यपाल ओपी कोहली से मुलाकात कर हार्दिक को उपवास की मंजूरी दिलाने की भी मांग की थी। इससे पहले टीएमसी नेता व पूर्व केंद्रीय मंत्री दिनेश त्रिवेदी भी हार्दिक से मुलाकात कर चुके हैं। हार्दिक ने अहमदाबाद व गांधीनगर उपवास के लिए मंजूरी की मांग की थी, लेकिन शांति व कानून व्यवस्था के मद्देनजर प्रशासन ने इसकी मंजूरी नहीं दी थी।

उपमुख्यमंत्री नितिन पटेल व भाजपा अध्यक्ष जीतू वाघाणी ने हार्दिक के उपवास को राजनीतिक व कांग्रेस प्रेरित बताया है। सरकार का दावा है कि राज्य की शांति व्यवस्था व सामाजिक समरसता को बिगाड़ने के लिए कांग्रेस हार्दिक के बहाने राजनीति कर रही है, ताकि आगामी लोकसभा चुनाव में फायदा मिल सके। भाजपा व सरकार का यह भी दावा है कि हार्दिक को पाटीदार समाज का समर्थन अब नहीं रहा है, वह अपनी महत्वाकांक्षा को पूरा करने के लिए इस तरह के नाटक कर रहे हैं।

उधर, हार्दिक ने कहा है कि 24 घंटे के लिए उनके आवास को घेरे बैठी पुलिस को हटा दें तो पता चल जाएगा कि उनके साथ कितने लोग हैं। हार्दिक ने कहा कि पुलिस लोगों को यहां नहीं आने दे रही है, लेकिन राज्य के गांव व शहरों में लोग उनके समर्थन में उपवास कर रहे हैं।

एनसीपी नेता प्रफुल्ल पटेल ने गुजरात पुलिस को लेकर नाराजगी जताते हुए कहा कि पुलिस उनसे ऐसा बर्ताव कर रही थी, जैसे किसी एक अपराधी से दूसरा अपराधी मिलने जा रहा हो। पाटीदार नेता हार्दिक पटेल से मुलाकात के बाद उन्होंने यह शिकायत की।

एनसीपी नेता पटेल ने कहा कि आंदोलन उपवास करना किसी भी व्यक्ति का अधिकार है, लेकिन हार्दिक पटेल के साथ सरकार व पुलिस ऐसा व्यवहार कर रही है, जैसे वो गैरकानूनी काम कर रहे हों। पटेल ने कहा कि किसानों की कर्ज माफी व आरक्षण के मुद्दे को एनसीपी समर्थन करती है।

राजस्थान से आए गुर्जर नेता हिम्मत सिंह ने भी पुलिस पर मनमानी का आरोप लगाते हुए कहा कि हार्दिक किसी एक समाज नहीं बल्कि आरक्षण से वंचित सभी वर्ग व युवाओं की आवाज उठा रहे हैं।

Posted By: Sachin Mishra