अहमदाबाद, शत्रुघ्‍न शर्मा। Gujarat CM Vijay Rupani: गुजरात में साल के अंत में होने वाले स्‍थानीय निकाय चुनाव की कमान मुख्‍यमंत्री विजय रूपाणी ने खुद अपने हाथ में ले ली है। भाजपा के सभी जिलाध्‍यक्ष व विधायकों से मुलाकात कर वे इस चुनाव की रणनीति तैयार करेंगे। उधर, कांग्रेस में विधानसभा उपचुनाव की कमान प्रदेश के वरिष्‍ठ नेताओं को सौंपी गई है। राज्‍यसभा चुनाव से पहले कांग्रेस के आठ विधायकों के इस्‍तीफा देने से आठ सीटें खाली हो गई थीं, इनमें कच्‍छ की अबडासा, सौराष्‍ट्र की गढडा, धारी, मोरबी, लींबडी, मध्‍य गुजरात की करजण, दक्षिण गुजरात की कपराडा व डांग सीट शामिल है। गुजरात भाजपा उपचुनाव के लिए पूरी तैयारी कर अब साल के अंत में होने वाले स्‍थानीय निकाय चुनाव तक की रणनीति पर काम कर रही है।

मुख्यमंत्री विजय रूपाणी इसके लिए भाजपा के सभी जिलाध्‍यक्ष व पार्टी के विधायकों के साथ संयोजन कर निकाय चुनाव की योजना तैयार करेंगे। इससे पहले भाजपा के गुजरात प्रभारी भूपेंद्र यादव, केंद्रीय मंत्री पुरुषोत्‍तम रूपाला, मंत्रिमंडल के सदस्‍य, प्रदेश अध्‍यक्ष जीतूभाई वाघाणी, संगठन महामंत्री व पूर्व सांसद भिखूभाई दलसाणिया, महामंत्री व पूर्व सांसद भरतसिंह परमार व कोर कमेटी के सदस्‍य उपचुनाव के मुद्दे पर चर्चा कर चुके हैं। भाजपा के प्रदेश प्रवक्‍ता भरत पंड्या के अनुसार, पूर्व मंत्री शंकरभाई चौधरी व भाजपा के प्रदेश उपाध्‍यक्ष भार्गव भट्ट उपचुनाव के प्रबंधन का काम देखेंगे। अबडासा सीट का प्रभारी शिक्षामंत्री भूपेंद्र सिंह चूडास्मा, लींबडी में कृषि मंत्री आरसी फलदू, करजण में प्रदीप सिंह जाडेजा, डांग में वनमंत्री गणपत सिंह वसावा, कपराडा में सहकार मंत्री ईश्‍वर सिंह पटेल, मोरबी ऊर्जा मंत्री सौरभ पटेल तथा गढडा सीट पर जलापूर्ति मंत्री कुंवरजी बावलिया को प्रभारी नियुक्‍त किया गया है।

कांग्रेस के वरिष्‍ठ नेता अर्जुन मोढवाडिया बताते हैं कि राज्‍य की आठ सीट पर होने वाले उपचुनाव पर प्रदेश कांग्रेस कार्यालय पर चर्चा हो चुकी है। पार्टी का मत है कि प्रदेश के वरिष्‍ठ नेताओं को एक-एक सीट का प्रभारी नियुक्‍त कर जीत की जिम्‍मेदारी उनको सौंपी जाए। कांग्रेस का पुरा फोकस अभी उपचुनाव है, स्‍थानीय निकाय चुनाव को लेकर पार्टी इस चुनाव के बाद विचार-विमर्श करेगी। राज्‍यसभा चुनाव में एनसीपी विधायक कांधल जाडेजा के भाजपा के पक्ष में मतदान से नाराज कांग्रेस अब एनसीपी को लेकर अधिक आशावादी नहीं है। मोढवाडिया उपचुनाव में एनसीपी के साथ किसी तरह का गठबंधन करने से साफ इन्कार करते हैं। वहीं, स्‍थानीय निकाय चुनाव में भी किसी तरह के गठबंधन की उम्‍मीद कम ही रखते हैं। मोढवाडिया का मानना है कि स्‍थानीय निकाय चुनाव पार्टी कार्यकर्ता लड़ते हैं, इसलिए उनका मिजाज अलग तरीके का होता है। फिर भी जब स्‍थानीय निकाय चुनाव होंगे, पार्टी तब के हालात के अनुसार निर्णय करेगी।

Posted By: Sachin Kumar Mishra

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस