अहमदाबाद, जेएएनएन। Cyclone Vayu चक्रवाती तूफान वायु फिर गुजरात में दस्तक दे सकता है। पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय के अनुसार 17-18 जून को फिर से अपना मार्ग बदलकर कच्छ तट पर ये तूफान टकरा सकता है। चक्रवात की प्रचंडता घटने की संभावना है। यह चक्रवात या 'डीप डिप्रेशन के तौर पर तट पर दस्तक दे सकता है। गुजरात सरकार ने भी चक्रवात के मार्ग बदलने की संभावना के बारे में चेतावनी जारी की है।

मिली जानकारी के अनुसार चक्रवाती तूफान वायु पश्चिम की ओर मुड़ रहा है, जिससे पोरबंदर, देवभूमि द्वारका जिले 50-60 किमी. प्रति घंटे से लेकर 70 किमी. प्रति घंटे तथा गिर सोमनाथ और जूनागढ़ जिले 30-40 किमी. प्रति घंटे से लेकर 50 किमी. प्रति घंटे की गति वाली हवाएं चलेंगी। चक्रवात के अगले 48 घंटों में पश्चिम की ओर बढऩे और फिर उत्तर-पूर्व की ओर मुडऩे की संभावना है। 

गौरतलब है कि शुक्रवार को गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने कहा था कि यह स्पष्ट हो गया है कि चक्रवात वायु से गुजरात को कोई खतरा नहीं है, राज्य अब सुरक्षित है। सरकार ने उन 10 क्षेत्रों में स्थिति से निपटने के लिए भेजे गए सभी वरिष्ठ मंत्रियों और अधिकारियों को वापस बुलाने का फैसला किया, जहां इस चक्रवात के अधिक सक्रिय होने की आशंका थी।

बता दें कि चक्रवात के असर से राज्यभर के मौसम में बदलाव आया। सौराष्ट्र के तटवर्ती क्षेत्रों में तेज आंधी चली और समुद्र में 20 से 25 फीट ऊंची की लहरें उठी। राजस्व विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव पंकज कुमार के अनुसार यह अति भयानक चक्रवात है, जब तक पूरी तरह सुरक्षित नहीं हो जाते तब तक सरकार व प्रशासन अलर्ट पर है। समुद्र तटों पर सबसे खतरनाक 9 नंबर का सिग्नल लग चुका है। वायु के चलते रेलवे ने एहतियातन 86 ट्रेनें रद की, जबकि 37 के रूट को कम कर दिया। कच्छ और सौराष्ट्र में सभी एयरपोर्ट को बंद कर दिया गया था, इसलिए अहमदाबाद से इन क्षेत्रों की उड़ाने भी रद कर दी गई थीं।

इस बीच, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने विदेश से लौटकर भारत की धरती पर पैर रखते ही गुजरात के मुख्यमंत्री रूपाणी को फोन कर गुजरात के हालात का जायजा लिया था। मोदी ने केंद्र से हर संभव मदद का भी आश्वासन दिया।

 

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Babita kashyap

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप