अहमदाबाद, जेएनएन। लॉकडाउन के कारण राज्य में रोजगार, व्यवसाय ठप हो गया है, वहीं मूंगफली तथा कपासिया तेल में भाव वृद्धि होने के कारण घर का बजट असंतुलित हो गया है। मूंगफली के तेल में प्रति डिब्बा 40 रुपये बढ़कर 2340 रुपये तथा कपासिया तेल का डिब्बा 1440 रुपये हो गया है। व्यापारियों की माने तो कच्चा माल नहीं मिलने से ही भाव में वृद्धि हुई है।

राज्य में कोरोना वायरस के कारण मूंगफली और कपासिया के तेल के दामों में वृद्धि हुई है। इससे गृहिणियों का बजट असंतुलित हो जायेगा। एक ओर जहां रोजगार धंधा बंद है, वहीं इस वृद्धि से कई सवालात खड़े हुए हैं। इससे जहाँ आर्थिक समस्या बढ़ेगी, वहीं इसकी आपूर्ति भी प्रभावित हो सकती है।

तेल बाजार में मूंगफली के तेल का डिब्बा जो 2300 रुपये में बिक रहा था अब 2340 रुपये हो गया है। वहीं कपासिया तेल की कीमत बढ़कर 1440 रुपये हो गई है। व्यापारियों ने इस बारे में बताया कि ऑफ सीजन चल रही है। इसलिए इसकी कीमत में बढ़ोत्तरी हुई है। दीपावली के दौरान जब कपास की सीजन आती है, तब इसके भाव में कमी आती है। ऐसी संभावना है कि निकट भविष्य में मूंगफली के प्रति डिब्बे में 50 से 75 रुपयों की कमी भी हो सकती है।

वहीं एक तरफ यह दावा भी किया जा रहा था कि लॉकडाउन के हालात में तेल की कीमतों में किसी भी प्रकार न तो बढ़ोत्तरी होगी और नही इसका अभाव होगा। राज्य के सभी व्यापारियों के पास मूंगफली, कपासिया तथा सरसों के साथ ही अन्य खाघ तेल आवश्यक मात्रा में मौजूद हैं।

सौराष्ट्र मिल एसोसिएशन के अध्यक्ष समीर शाह ने बताया कि लॉकडाउन के कारण लोग जरूरत की तुलना में अधिक खऱीदी कर रहे हैं। वहीं नाफेद से कच्चा माल भी नहीं मिल रहा है। इसलिए तेल के उत्पादन में कमी आयी है। इस कारण गत तीन दिनों से भाव बढ़ा है। यदि कच्चा माल मिलना शुरू हो जायेगा तो इनकी कीमत एक बार फिर कम हो जायेगी।  

गुजरात की अन्य खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

Posted By: Preeti jha

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस