अहमदाबाद, जेएनएन। गुजरात में अवैध खनन के मामले में सजा पाने वाले कांग्रेसी विधायक भगवान बराड को विधानसभा अध्यक्ष राजेंद्र त्रिवेदी ने मंगलवार को अयोग्य घोषित कर दिया। गिर-सोमनाथ जिले की एक अदालत ने गत शुक्रवार को बराड को 24 साल पुराने अवैध खनन मामले में दो साल और नौ महीने के कारावास की सजा सुनाई थी। गत विधानसभा चुनाव में 60 वर्षीय बराड गिर-सोमनाथ जिले की तलाला सीट से विजयी हुए थे। कांग्रेस ने इस फैसले को राजनीति से प्रेरित बताते हुए बुधवार को प्रदेश भर में बंद का आह्वान किया है।

गांधीनगर में त्रिवेदी ने संवाददाताओं से कहा, 'बराड को विधानसभा की सदस्यता से अयोग्य करार दिया गया है। इसकी सूचना मुख्य निर्वाचन अधिकारी और चुनाव आयुक्त को दे दी गई है। अब वह विधायक नहीं हैं।' उन्होंने बताया कि बराड पर यह कार्रवाई चुनाव आयुक्त की अधिसूचना और सुप्रीम कोर्ट के आदेश के अनुरूप की गई है। सुप्रीम कोर्ट ने पिछले साल कहा था कि अगर आपराधिक मामले में कानून निर्माता को हुई सजा पर उच्च अदालत द्वारा रोक नहीं लगाई जाती है तो उसे हाउस की सदस्यता से अयोग्य ठहराया जा सकता है।

उल्लेखनीय है कि बराड ने अपनी सजा को गुजरात हाई कोर्ट में चुनौती दी है। नेता प्रतिपक्ष परेश धणानी का दावा है कि बराड को सजा के दिन ही निचली अदालत से जमानत मिल गई थी। निचली अदालत ने फैसले के खिलाफ हाई कोर्ट में अपील के लिए 30 दिनों की मोहलत देते हुए अपनी सजा को भी निलंबित कर दिया था। ऐसे में उन्हें अयोग्य ठहराया जाना राजनीति से प्रेरित है। 

Posted By: Sachin Mishra

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस