अहमदाबाद, जेएनएन। अहमदाबाद के अमराईवाडी क्षेत्र में दिव्यांग व मानसिक रूप से बीमार युवती से दुष्कर्म कर उसे गर्भवती बनाने के मामले में सिटी सेशन्स जज ने आरोपित की जमानत याचिका खारिज कर दी है। 

शहर के अमराईवाडी क्षेत्र की 23 वर्षीय युवती जन्म से मूक बधिर व हाथ पैर से दिव्यांग थी। इसके अतिरिक्त वह मानसिक रूप से भी अस्वस्थ थी। उसके परिवार ने अपने मकान का एक कमरा राजस्थान से आए गोविंद सिंह नारण सिंह शेखावत को किराये पर दिया था। युवती को तीन अगस्त, 2019 को शारीरिक समस्या हुई। परिजन जब उसे चिकित्सा के लिए डॉक्टर के पास ले गए तो पता चल कि उसे चार महीने का गर्भ है। इस संबंध में पीड़िता ने किरायेदार गोविंद सिंह की ओर इशारा किया।

उसके बाद यह पता चला गया कि घर में किसी के नहीं होने पर किरायेदार गोवेंद युवती से दुष्कर्म करता था। पीड़िता के परिवार ने इस बारे में किरायेदार से पूछा तो उसने कहा कि वह गर्भपात का खर्च देने के लिए तैयार है। इसके बाद वह मौका पाते ही राजस्थान चला गया। शिकायत दर्ज होने पर पुलिस उसे राजस्थान से लाकर मुकदमा दर्ज किया। आरोपित ने यहां सेशन्स कोर्ट में जमानत के लिए आवेदन किया, जिसे जज ने खारिज कर कह कि इस प्रकार के मामले में जमानत नहीं दी जा सकती।  

गुजरात की अन्य खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

Posted By: Sachin Mishra

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप