अहमदाबाद, जेएनएन। गुजरात की महत्वपूर्ण नदियों में से एक साबरमती नदी में कूड़ा फेंकने वालों के खिलाफ अब कड़ी कार्रवाई की जाएगी। अहमदाबाद महानगर पालिका ने साबरमती नदी को स्वच्छ बनाने का अभियान चलाया है। इसके तहत अब साबरमती नदी में पूजा सामाग्री सहित कूड़ा फेंकने वालों को 200 रुपये से लेकर 500 रुपये का दंड किया जाएगा। इसके लिए प्रशासन ने शहर के बीच से गुजरती साबरमती नदी के दोनों तरफ सीसीटीवी कैमरा लगाने का निर्णय किया है।

अहमदाबाद महानगर पालिका ने बताया कि गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने साबरमती नदी को स्वच्छ बनाने के लिए अनोखा अभियान चलाया है। जिसके तहत केवल पांच दिनों में नदी में से कुल 500 टन कूड़ा बाहर निकाला गया है। जिसमें से 352 टन यानि 65 फीसद पूजा सामाग्री है। मनपा अधिकारियों के मुताबिक, नदी में विविध धार्मिक त्योहारों के दौरान भगवान की मूर्ति विसर्जित की जाती है। इसी समय लोगों द्वारा नदी में पूजा साम्रागी भी फेंक दी जाती है। प्रशासन ने पिछले कई वर्षों से नदी के किनारे एक कुंड बनाकर मूर्ति उसमें वसर्जित करने का आदेश दिया है। लेकिन इसके बाद भी लोगों द्वारा नदी में मूर्तियां विसर्जित की जाती है। इस दौरान पूजा सामाग्री भी विर्सजित की जाती है।

मनपा प्रशासन के मुताबिक, साबरमती नदी अहमदाबाद शहर के लिए महत्वपूर्ण है। इसलिए इसे प्रदूषित होने से रोकने के लिए सख्त कदम उठाए गए हैं। नदी के दौरान सीसीटीवी कैमरे लगाए जाएंगे और इसका संचालक भी नदी के पास के इलाके किया जाएगा, ताकि नदी में कुंडा फैकने वालों के खिलाफ 200 रुपये से लेकर 500 रुपये तक का दंड वसूला जा सकेगा। मनपा के मुताबिक, साबरमती नदी में गटर का पानी ट्रीट कर डाला जाएगा।  

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Sachin Mishra

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप