अहमदाबाद, जागरण संवाददाता। राजधानी गांधीनगर के पेथापुर गांव में स्थित स्वामीनारायण मंदिर के दरवाजे पर बीती रात एक शख्स एक मासूम बच्चे को छोड़कर चला गया जिसके माता-पिता को तलाशने के लिए गुजरात पुलिस की 10 टीमें लगाई गई है। गृह राज्य मंत्री हर्ष संघवी ने बताया कि बालक बिल्कुल स्वस्थ है तथा उसको इस स्मित नाम से पुकारा जा रहा है। भाजपा की पार्षद दीप्तिबेन पटेल यशोदा बनकर उसकी देखभाल कर रही है। संघवी ने कहा कि बालक को छोड़कर जाने की सूचना मिलने के तुरंत बाद पुलिस ने कार्रवाई शुरू कर दी थी, अस्पताल प्रशासन उसकी सार संभाल कर रहा है। संघवी ने नागरिकों से भी अपील की है कि इंटरनेट मीडिया व समाज के अलग-अलग ग्रुप के माध्यम से बच्चे की जानकारी को लोगों के साथ शेयर कर इसके असल माता-पिता की पहचान की जाए इस संबंध में किसी को कोई भी जानकारी हो तो वह सीधे गांधीनगर पुलिस से संपर्क करे।

आईपीएस मयूर चावड़ा ने बताया की तमाम राज्यों के स्टेट क्राइम रिकार्ड ब्यूरो को इसकी सूचना दे दी गई है। बच्चे का राजस्थान कनेक्शन होने की आशंका के चलते एक टीम राजस्थान की ओर भी भेजी गई। गुजरात पुलिस के 100 कर्मचारी व अधिकारी इस जांच से जुड़े हैं।

गांधीनगर के पेथापुर में बीती रात एक शख्स एक से डेढ़ साल के मासूम को मंदिर के दरवाजे पर छोड़कर चला गया। मंदिर में आसपास के 40 सीसीटीवी फुटेज एकत्र किए हैं लेकिन बच्चे को छोड़कर जाने वाले व उसके माता-पिता के बारे में अभी तक कोई जानकारी हासिल नहीं हो पा रही है। लोकल क्राइम ब्रांच, स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप, तथा अहमदाबाद क्राइम ब्रांच की 10 टीमें बच्चे के माता-पिता की तलाश कर रही है। महिला पुलिस 2 टीम में शामिल हैं जो गांधीनगर के आस-पास के गांव में इस मामले की छानबीन कर रही है। गांधीनगर के सोला सिविल अस्पताल में इस बच्चे को रखा गया है तथा भाजपा पार्षद दीप्ति बेन यशोदा की तरह उसकी देखभाल कर रही है।

डॉ मनीषा ने बताया कि बच्चे का ब्लड सैंपल लिया गया है तथा उसका डीएनए टेस्ट कराया जा रहा है। बच्चे के दांतों के आधार पर उसकी उम्र का भी पता लगाया जाएगा। मेडिकल जांच में बच्चा पूरी तरह स्वस्थ पाया गया है उसे किसी भी तरह की कोई चोट व शारीरिक परेशानी नहीं है लेकिन सवाल अब यह उठ रहा है कि बच्चे का अपहरण किया गया था या उसके पिता खुद त्याग कर गए। जब व्यक्ति बीती रात करीब 9:30 बजे बच्चे को मंदिर के दरवाजे पर छोड़ कर गया तो अचानक उसकी रोने की आवाज आने लगी। पुलिस तुरंत हरकत में आई और इस मामले की तह तक पहुंचने के लिए अलग-अलग टीमों का गठन कर जांच शुरू की गई। गुजरात पुलिस की एक टीम राजस्थान की ओर भी रवाना की गई है पुलिस का मानना है कि राजस्थान से इस बच्चे का संबंध हो सकता है इसलिए गुजरात के सीमावर्ती जिलों के प्रशासन व पुलिस को भी बच्चे की फोटो व जानकारी भेजी गई है।

Edited By: Babita Kashyap