रोम, आइएएनएस। इटली लीग सीरी-ए का 2020-21 सत्र इस साल 19 सितंबर से शुरू होगा और 21 मई 2021 को समाप्त होगा। एक बैठक में सीरी-ए के अधिकतर क्लबों ने इस पर अपनी सहमति व्यक्त की है। सीरी-ए का 2019-20 सत्र रविवार को ही समाप्त हुआ है जिसमें जुवेंटस ने लगातार नौवां खिताब जीता। वहीं, इंटर मिलान की टीम दूसरे नंबर पर रही है। कोरोना वायरस महामारी के कारण 2019-20 सत्र तीन महीने तक स्थगित था।

खांसने पर खिलाड़ी को दिखाया जा सकता है लाल कार्ड

ज्यूरिख, एपी। फुटबॉल खिलाड़ी अगर किसी अन्य खिलाड़ी या मैच अधिकारी के करीब जाकर जानबूझकर खांसता है जो उसे लाल कार्ड दिखाया जा सकता है। फुटबॉल के नियम बनाने वाले अंतरराष्ट्रीय फुटबॉल संघ बोर्ड (आइएफएबी) ने कोरोना वायरस महामारी के बाद अपने दिशानिर्देशों को अपडेट करते हुए यह जानकारी दी। रेफरी हालांकि तभी खिलाड़ी को लाल कार्ड दिखा सकता है जब वह सुनिश्चित हो कि जानबूझकर खांसा गया है। इस दौरान पीला कार्ड दिखाने का विकल्प भी रहेगा। इस नियम को आक्रामक, अपमानजनक या अभद्र भाषा और इशारे के इस्तेमाल के अंतर्गत जगह दी गई है। आइएफएबी ने कहा, 'बाकी सभी अपराधों की तरह रेफरी को फैसला करना होगा कि अपराध की असल प्रकृति क्या है। अगर यह दुर्घटनावश है तो रेफरी कोई कार्रवाई नहीं करेगा और ना ही तब जब खिलाडि़यों से काफी अधिक दूरी पर खांसा जाएगा। हालांकि जब यह इतना करीब होगा कि अपराध लगे तो रेफरी कार्रवाई कर सकता है।'

दिल्ली को मार्गदर्शन देने के लिए तैयार है एआइएफएफ

नई दिल्ली, जेएनएन। अखिल भारतीय फुटबॉल महासंघ (एआइएफएफ) के महासचिव कुशल दास ने कहा है कि महासंघ दिल्ली प्रदेश को मार्गदर्शन देकर उसका सही दर्जा दिलाने के लिए तैयार है। उन्होंने कहा, 'फुटबॉल दिल्ली बहुत फायदेमंद स्थिति में है। एआइएफएफ मुख्यालय ज्यादा दूर नहीं है। एआइएफएफ अपनी लीग और स्पर्धाओं के जरिये हर सत्र में करीब 1500 मैच कराता है और 30000 से अधिक गोल्डन बेबी लीग होती हैं। पर्याप्त संसाधनों के बिना फुटबॉल का विकास असंभव है और हम इस दिशा में मार्गदर्शन देने के लिए तैयार हैं।'

इंफेंटिनो के कारण फीफा की छवि को हुआ नुकसान : उप महासचिव

ज्यूरिख, एपी। विश्व फुटबॉल के संचालन को लेकर जियानी इंफेंटिनो की स्विट्जरलैंड के विशेष अभियोजक द्वारा जांच किए जाने से फुटबॉल की वैश्विक संचालन संस्था फीफा को लग रहा है उसकी छवि खराब हुई है जिसे बदला नहीं जा सकता है।

घोटालों से फीफा की खराब हुई छवि को उस समय और धक्का लगा जब उसके अध्यक्ष और अधिकारियों के बीच हुई गुप्त बैठक के बारे में पता चला। फीफा के उप महासचिव अलसादेयर बेल ने कहा, 'यह अब रिकॉर्ड में है कि आपराधिक जांच हो रही है, हम इसे झुठला नहीं सकते। इससे छवि को जो नुकसान हुआ है उसे बदला नहीं जा सकता।'

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस