जेनेवा, एपी। अंतरराष्ट्रीय ओलिंपिक समिति (आइओसी) ने कहा है कि फुटबाल की वैश्विक संस्था फीफा की प्रत्येक दो साल में विश्व कप के आयोजन की योजना को लेकर उसकी 'चिंताएं' हैं।

आइओसी के अध्यक्ष थामस बाक ने पिछले महीने कहा था वे इस चर्चा में हस्तक्षेप नहीं करेंगे लेकिन शनिवार को एथेंस में बैठक के बाद उन आपत्तियों की जानकारी दी गई जो फुटबाल के हितधारकों के साथ साझा की गई हैं। कार्यकारी बोर्ड की बैठक के बाद आइओसी ने बयान में जिन चिंताओं का हवाला दिया है उनमें अन्य खेलों के कार्यक्रम के साथ टकराव, पुरुष विश्व कप का महिला टूर्नामेंट पर हावी होना और खिलाड़ियों पर गहरा असर भी शामिल हैं। आइओसी ने अपने बयान में भविष्य में विश्व कप और ओलिंपिक के संभावित टकराव का जिक्र नहीं किया है क्योंकि ऐसा लास एंजिलिस में 2028 में होने वाले ओलिंपिक से पहले नहीं होगा।

आइओसी ने हालांकि यह कहते हुए प्रत्येक दो साल में विश्व कप के आयोजन की योजना की आलोचना की है कि इस योजना को तैयार करने से पहले सभी हितधारकों के साथ विस्तृत सलाह मशविरा नहीं किया गया। फीफा ने संन्यास ले चुके खिलाड़ियों के साथ बैठक के बाद पिछले महीने अंतरराष्ट्रीय फुटबाल प्रतियोगिताओं के कैलेंडर को पुन : तैयार करने की विस्तृत योजना की जानकारी नहीं दी थी जिसका केंद्र पुरुष और महिला विश्व कप का प्रत्येक दो साल में आयोजन था।

फीफा के अध्यक्ष जियानी इनफेंटिनो के समर्थन वाले इस प्रस्ताव की घोषणा इस खेल में दबदबा बनाने वाले यूरोप और दक्षिण अफ्रीका के सदस्य महासंघों से औपचारिक सलाह मशविरे के बिना की गई थी। यूरोपीय संचालन संस्था यूएफा और दक्षिण अमेरिका की संचालन संस्था कोनमेबोल ने चेतावनी दी है कि अगर फीफा अपनी योजना पर आगे बढ़ता है तो वे विश्व कप का बहिष्कार करेंगे क्योंकि इससे उनकी महाद्वीपीय प्रतियोगिता का महत्व कम होगा जिसका आयोजन प्रत्येक चार साल में ओलिंपिक वर्ष में किया जाता है।

Edited By: Sanjay Savern