कोलकाता, पीटीआइ। कोलकाता के गर्म माहौल में चिली की टीम अपना पहला फीफा अंडर-17 जीतने के लिए 'चक दे इंडिया' देखने से लेकर हठ योग तक का सहारा ले रही है। 

कोच हर्नन कापुटो के साथ 21 सदस्यीय दल और सहयोगी स्टाफ ने यहां के एक थिएटर में 2007 में आई शाहरुख खान की फिल्म 'चक दे इंडिया' देखी। टीम ने अपनी अधिकारिक वेबसाइट पर पोस्ट किया, 'फिल्म देखने की योजना की सभी ने सराहना की। यह फिल्म दिखाती है कि महिला हॉकी खिलाड़ियों की एक टीम किस तरह तमाम विभिन्नताओं के बावजूद जीतने में कामयाब रहती है।' 

चिली की अंडर-17 टीम को लारोजा अंडर-17 के नाम से जाना जाता है। कोलकाता की परिस्थितियां भले ही नई हों, कोच हर्नन यहां के माहौल को घर जैसा मान रहे हैं। उनकी टीम ने 35 डिग्री तापमान और 95 फीसद आर्द्रता में प्रशिक्षण लिया है। कोलकाता में उसे लगभग वैसी ही परिस्थितियां मिली हैं। 

टीम ने कोलकाता में हठ योग के प्रशिक्षक से योग का प्रशिक्षण भी लिया और इसका वीडियो भी अपने ट्विटर पर 'दिमाग, शरीर और आत्मा' के नाम से पोस्ट किया। चिली का पहला मुकाबला आठ अक्टूबर को इंग्लैंड से होगा। उसके ग्रुप 'एफ' में इराक और मेक्सिको हैं।

खिलाड़ियों के अभिभावक देखेंगे मैच

अखिल भारतीय फुटबॉल संघ (एआइएफएफ) अंडर -17 टीम के खिलाड़ियों के अभिभावकों को दिल्ली लाने की जिम्मेदारी उठाएगा, जिससे वे अपने बच्चों को मैदान पर विश्व कप में खेलता हुआ देख सकें। भारतीय टीम के ज्यादातर खिलाड़ी गरीब परिवारों से हैं। उनके अभिभावकों ने बताया कि हमारे पास इतना पैसा नहीं है कि हवाई जहाज के टिकट लेकर बच्चों के मैच देखने दिल्ली आ सकें। एआइएफएफ ने बताया कि खिलाड़ियों ने इस कदम के लिए धन्यवाद दिया है। कप्तान अमरजीत सिंह ने कहा, 'एएफसी अंडर -16 चैंपियनशिप के दौरान भी एआइएफएफ ने यह सुनिश्चित कराया था कि मैचों के दौरान हमारे अभिभावक मौजूद रह सकें, जो हमारे लिए यादगार था।'

क्रिकेट की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

अन्य खेलों की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप