नई दिल्ली, जेेएनएन। क्रोएशिया फुटबाल टीम के मुख्य कोच ज्लातको डालिक ने कहा कि उनकी टीम फीफा विश्व कप के फाइनल में फ्रांस के खिलाफ बदले की फिराक में नहीं है। क्रोएशिया ने बुधवार रात को खेले गए दूसरे सेमीफाइनल मैच में इंग्लैंड को 2-1 से हराकर खिताबी मुकाबले में कदम रखा है। 

आपको बता दें कि साल 1998 के विश्व कप सेमीफाइनल में फ्रांस ने क्रोएशिया को 2-1 से ही हराया था। इस हार के बावजूद डालिक का कहना है कि उनकी टीम फ्रांस से बदला नहीं चाहती है।  डालिक ने कहा, साल 1998 में मैं एक समर्थक के रूप में फ्रांस में पहले तीन मैचों के लिए था।

क्रोएशिया में हर किसी को वह मैच याद है, जब थुरम ने गोल किया था और हमारी टीम को 2-1 से हार मिली थी। यह हार 20 वर्षो तक लोगों के लिए चर्चा का विषय बनी रही। मुझे याद है कि हमने इस मैच में सुकेर के गोल का जश्न मनाया था, लेकिन स्कोर 1-1 से बराबर होने के साथ ही हम हार गए।

क्रोएशिया को विश्व कप खिताब का प्रबल दावेदार नहीं माना जा रहा था लेकिन इस टीम ने अपने प्रदर्शन से फुटबॉल पंडितों को गलत साबित किया। ग्रुप स्टेज पर अर्जेंटीना को 3-0 से हराकर लुका मॉड्रिक की टीम ने अपनी पासिंग और तेज खेल से प्रभावित किया। वहीं, रूस के खिलाफ क्वार्टर फाइनल में क्रोएशिया एक बदली हुई टीम नजर आई, जहां उसने मेजबान टीम का 120 मिनट तक डटकर मुकाबला किया और फिर पेनाल्टी शूटआउट में जीत हासिल की। 

फाइनल में पहुंचने के बाद क्रोएशिया की नजर अब पहली बार विश्व कप खिताब जीतने पर रहेगी। 20वीं रैंक वाली क्रोएशिया की टीम फीफा विश्व कप के फाइनल में पहुंचने वाली सबसे कम रैंक वाली टीम है। इससे पहले फ्रांसीसी टीम ने 1998 विश्व कप में 18वीं रैंकिंग के साथ फाइनल में जगह बनाई थी।

फ्रांस ने साल 2006 में फाइनल में जगह बनाने में कामयाबी पाई थी जहां वो इटली के साथ रनर अप रहा था। जबकि साल 1998 के फाइनल मुकाबले में फ्रांस ने ब्राजील को हराकर खिताब पर कब्जा जमाया था। इस बार 12 वर्ष के बाद फ्रांस ने फाइनल में जगह बनाई है और इस टीम की नजर दूसरी बार खिताब जीतने पर है।

फीफा विश्व कप की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

खेल की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

 

Posted By: Lakshya Sharma