नई दिल्ली, एजेंसी। भारतीय फुटबॉल ने पिछले कुछ दिनों में काफी कुछ देख लिया। फुटबॉल की सर्वोच्य संस्था फीफा द्वारा प्रतिबंध लगाए जाने से लेकर इसको हटाए जाने तक का सफर बेहद दुख पहुंचाने वाला रहा। अच्छी बात यह है कि अब सबकुछ ठीक है और भारत को अगले साल अंडर 17 महिला विश्व कप के आयोजन की जिम्मेदारी उठानी है। इस बड़े आयोजन के लिए भारत सरकार भी प्रतिबद्ध है और इसको लेकर उनकी पहल भी देखने को मिल रही है। 

केंद्रीय मंत्रिमंडल ने बुधवार को इस साल भारत में होने वाले फीफा अंडर-17 महिला विश्व कप फुटबॉल की मेजबानी के लिए गारंटी पर मंजूरी प्रदान कर दी। युवा एवं खेल मंत्री अनुराग ठाकुर ने संवाददाताओं को बताया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में हुई मंत्रिमंडल की बैठक में इस आशय के प्रस्ताव को मंजूरी दी गई। विश्व कप 11 से 30 अक्टूबर 2022 तक खेला जाना है।

इस द्विवार्षिक प्रतियोगिता का सातवां सत्र भारत में होने जा रहा है जो देश में आयोजित की जाने वाली पहली फीफा महिला प्रतियोगिता होगी। अखिल भारतीय फुटबॉल महासंघ (एआइएफएफ) को खेल के मैदान के रख-रखाव, स्टेडियम में दर्शकों की क्षमता, ऊर्जा एवं केबल बिछाने तथा मैदान व प्रशिक्षण स्थल की ब्रांडिंग आदि के लिए 10 करोड़ रुपये की वित्तीय सहायता राष्ट्रीय खेल संघों (एनएसएफ) को सहायता योजना के लिए बजटीय आवंटन से वहन किया जाएगा।

सरकार का मानना है कि यह आयोजन न सिर्फ भारतीय लड़कियों के बीच एक पसंदीदा खेल के रूप में फुटबॉल को बढ़ावा देगा, बल्कि एक ऐसी अमिट छाप छोड़ेगा जो देश में लड़कियों व महिलाओं द्वारा फुटबाल और आम तौर पर खेलों को अपनाना आसान बनाएगा। 

Edited By: Viplove Kumar