नई दिल्ली (विश्वास न्यूज)। मध्‍य प्रदेश के कूनो नेशनल पार्क में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जन्मदिन पर अफ्रीकी देश नामीबिया से चीतों को लाया गया। विशेष विमान से ये चीतें पहले ग्‍वालियर, फिर हेलीकॉप्टर से कूनो तक लाए गए। अब सोशल मीडिया के विभिन्‍न प्‍लेटफार्म पर चीतों के विशेष विमान की तस्‍वीर को वायरल करते हुए दावा किया जा रहा है कि चीतों को भारत लाने के लिए सरकार ने करोड़ों रुपए खर्च कर विमान पर खास-तौर पर चीते की तस्वीर बनाई है।

दैनिक जागरण की फैक्ट चेकिंग वेबसाइट विश्वास न्यूज की पड़ताल में वायरल दावा भ्रामक निकला। विमान पर टाइगर की यह पेटिंग साल 2015 में एक रूसी एयरलाइन कंपनी ने बनवाई थी। जिसकी तस्वीर को भ्रामक दावे के साथ शेयर किया जा रहा है।

फेसबुक यूजर हेमंत ठाकुर ने वायरल तस्वीर को शेयर करते हुए कैप्शन में लिखा है : “मैं पहले ना कहता था पप्पू का गप्पू से कोई मुक़ाबला हो ही नहीं सकता। गप्पू के जन्मदिन पर नामीबियाई चीते लेने गए जहाज़ का मुखड़ा ही बदलवा डाला । है कोई, इससे बड़ा फ़र्ज़ी शोमैन ? लोग भूखे मर रहे हैं और वो जहाज़ से जानवर ला रहा है? उसे पता है कि हम मूर्ख इस इवेंटबाजी से ही प्रभावित होकर वोट डालते हैं, महंगाई और बेरोज़गारी के मुद्दों पर नहीं। तो प्यारे, भुक्तते रहो, उनके पिता जी का क्या जाता है? वो तो ठाठ में ही है, सौ महीने से।”

वायरल दावे की सच्चाई जानने के लिए विश्वास न्यूज ने फोटो को गूगल रिवर्स इमेज के जरिए सर्च किया। हमें दावे से जुड़ी एक रिपोर्ट Siberian Times की वेबसाइट पर मिली। रिपोर्ट को 23 जून 2015 को प्रकाशित किया गया था। रिपोर्ट के अनुसार, रूस की एक विमान कंपनी ट्रांसएरो ने अपने एक विमान बोइंग 747-400 पर साइबेरियाई बाघ की पेंटिंग बनवाई थी। इसका मकसद लोगों को साइबेरियाई बाघ के बारे में जागरूक करना था।

पड़ताल को आगे बढ़ाते हुए विश्वास न्यूज ने बोइंग 747-400 के बारे में सर्च करना शुरू किया। इस इस दौरान हमें विमानों के बारे में जानकारी देने वाली वेबसाइट Simple Flying पर मिली। रिपोर्ट 28 मई 2022 को प्रकाशित मिली। रिपोर्ट के अनुसार, 2021 में विमान को दुबई की एक एयरलाइन कंपनी एक्विलाइन इंटरनेशनल ने खरीद लिया था।

पूरी खबर को इस लिंक पर क्लिक कर पढ़ा जा सकता है।

Edited By: Versha Singh

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट