दीपेश पांडेय, मुंबई। वेब सीरीज कुबूल है 2.0 में करण सिंह ग्रोवर एक बार फिर से अपने लोकप्रिय किरदार असद अहमद खान के तौर पर नजर आ रहे हैं। आज से जी5 पर स्ट्रीमिंग के उपलब्ध इस शो का निर्माण साल 2012 से 2016 के बीच टेलीकास्ट हुए धारावाहिक कुबूल है के किरदारों के आधार पर किया गया है। जिसमें करण अब आर्किटेक्चर से जासूस बने हैं:

सवाल: धारावाहिक को वेब सीरीज को तौर पर बनाए जाने के बारे में जानकर आपकी पहली प्रतिक्रया क्या थी?

जवाब : इसके बारे में मुझे सबसे पहले धारावाहिक की प्रोड्यूसर गुल खान से पता चला था। हालांकि गुल इस वेब सीरीज से नहीं जुड़ी हैं। मुझे पता चला कि हमारे उन्हीं किरदारों के साथ वेब सीरीज बन रही पर इसकी दुनिया बिल्कुल अलग होगी। मैं बहुत खुश हुआ। शो की कहानी मौजूदा दौर के लिए प्रासंगिक है। लगभग सभी किरदारों की पृष्ठभूमि भी वही हैं, सिर्फ जोया की पृष्ठभूमि में कुछ बदलाव किया गया है। इस शो को मुंबई और सर्बिया में शूट किया गया है।

सवाल : पहली बार जासूस बनने की तैयारियां कैसी रही?

जवाब : मेरा किरदार असद आर्किटेक्चर से विश्व चैंपियन शूटर बन गया है। भारतीय खूफिया एजेंसियों के कहने पर वह जासूस बनता है। शूटिंग सीखने के लिए मैंने विशेषज्ञों से प्रशिक्षण लिया। हमें लगता है कि शूट करना या निशाना लगाना आसान होता है, लेकिन हर सांस पर आपका शरीर हिलता है। ऐसे में खुद को स्थिर रखकर निशाना लगाना आसान नहीं होता। बाकी चीजों में मुझे कोई खास मुश्किल नहीं हुई।

सवाल : जासूसी कहानियों के प्रति निर्माताओं की बढ़ती दिलचस्पी का क्या कारण मानते हैं?

जवाब : लोग हमेशा अपनी सामान्य जिंदगी से अलग कहानियां देखना पसंद करते हैं क्योंकि जो जिंदगी वो नहीं जी सकते हैं वह उनके लिए और भी ज्यादा आकर्षक होती है। इसके अलावा इस तरह के शो में रोमांच और रहस्य भी हमेशा बरकरार रहता है। लोगों को पता नहीं आगे नायक के जीवन में क्या होने वाला है या उसकी कहानी में क्या नया मोड़ आने वाला है।

सवाल : धारावाहिक खत्म होने के बाद चैनल और आपके बीच कुछ विवाद भी सामने आए थे, इस शो को साइन करने से पहले क्या वह चीजें भी दिमाग में आई?

जवाब : (गंभीर मुद्रा में) मेरे जीवन में विवादों और नकारात्मक चीजों के लिए कोई जगह नहीं हैं। कुबूल है के बारे में सोचने पर मुझे हमेशा इससे जुड़ी खूबसूरत और प्यारी स्मृतियां ही याद आती हैं। मुझे तो उस विवाद के बारे में याद भी नहीं था। मेरे लिए यह सब बहुत छोटी बातें हैं। ऐसी चीजों को दिल में रखना भी नहीं चाहिए।

सवाल : साल 2015 के बाद से आपकी कोई फिल्म नहीं आई, इसका क्या वजह रही?

जवाब : मेरा पेंटिंग का काम प्रोफेशनल स्तर पर है जो पहले नहीं था। कई अंतरराष्ट्रीय पेंटिंग गैलरी ने मुझे साइन किया है। कैमरे के सामने परफॉर्म करना और कैनवस पर अपनी कला उतारना दोनों अलग-अलग चीजें हैं। मेरे लिए दोनों दिशाओं में एक साथ काम करना मुश्किल था। इसलिए प्रोजेक्ट्स के बीच इतना अंतराल दिख रहा है। 2015 के बाद मैंने 3 देव और फिरकी जैसी कुछ फिल्में भी की, लेकिन 3 देव रिलीज नहीं हुई और फिरकी में भी निर्माताओं के बीच कुछ मामला अटका है।

सवाल : आगे की क्या योजनाएं हैं, क्या आगे भी पेंटिंग ही प्राथमिकता रहेगी?

जवाब : नहीं, अब मैं जीवन के ऐसे मोड़ पर हूं, जहां दोनों चीजें एक साथ कर सकता हूं। मैंने एहसास किया कि अगर दिन के चौबीसों घंटों को अपने पूरी क्षमता के अनुसार प्रयोग करें तो हमारे पास बहुत वक्त होता है। अब मैंने अपने जीवन में काफी बदलाव लाया है, जैसे अब मैं सिर्फ चार घंटे सोता हूं और सुबह पांच बजे उठकर अपनी व्यायाम, पेंटिंग और प्रार्थना सारे काम कर लेता हूं।

सवाल : किस तरह के प्रोजेक्ट पर काम कर रहे हैं?

जवाब : कुबूल है का एक और सीजन आएगा जो कुछ महीनों के बाद शूट करेंगे। इसके अलावा मैं एक और वेब सीरीज में काम कर रहा हूं, लेकिन फिलहाल मैं उसके बारे में बात नहीं कर सकता।

 

 

 

 

View this post on Instagram

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

A post shared by karan singh grover (@iamksgofficial)

Edited By: Nazneen Ahmed