नई दिल्ली, जेएनएन। टीवी अभिनेता पर्ल वी पुरी इन दिनों नाबालिग के साथ दुष्कर्म का मामला झेल रहे हैं। हाल ही में उनपर एक नाबालिग को सीरियल में काम दिलवाने के नाम पर दुष्कर्म करने का आरोप लगा हैं। हालांकि बहुत से टीवी सितारों ने पर्ल वी पुरी का समर्थन किया है और उनपर लगे आरोपों को झूठ बताया है। उनमें मशहूर निर्माता-निर्देशक एकता कपूर का भी नाम शामिल है।

हाल ही में एकता कपूर ने सोशल मीडिया के जरिए पर्ल वी पुरी पर लगे दुष्कर्म के आरोपों को गलत ठहराया। अब एकता कपूर ने इन्हीं दावों पर मुंबई के वसई के डीएसपी ने अपनी प्रतिक्रिया दी है। शनिवार को पर्ल वी पुरी के मामले पर डीएपसी संजय कुमार पाटिल ने मीडिया से बात की। इस दौरान उन्हें अभिनेता पर लगे सभी आरोपों को सबूतों के आधार पर सही बताया और कहा है उनके ऊपर लगा एक भी आरोप झूठा नहीं है।

एक रिपोर्टर ने संजय कुमार पाटिल से कहा कि एकता कपूर ने पर्ल वी पुरी के खिलाफ लगे सभी आरोपों को झूठा बताया है। इस पर डीएसपी ने कहा, 'नहीं, आरोप बिल्कुल झूठे नहीं है। जांच में उनका (पर्ल वी पुरी) नाम सामने आया है। उनके खिलाफ सबूत भी हैं। इस वजह से पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार किया है। जांच में सच का साथ दिया जाएगा।' गौरतलब है कि पर्ल वी पुरी की गिरफ्तारी के बाद एकता कपूर ने सोशल मीडिया पर उनके लिए लंबा-चौड़ा पोस्ट लिखा था।

इस पोस्ट में उन्होंने लिखा था, 'क्या मैं एक चाइल्ड मोलेस्टर को सपोर्ट करूंगी...या किसी भी अन्य तरह के मोलेस्टर को सपोर्ट करूंगी? लेकिन मैंने पिछली रात से अभी तक इंसानों को गिरते हुए देखा है। इंसानियत इतनी नीचे कैसे गिर सकती है? कैसे जो लोग आपस में एक दूसरे से परेशान हैं, किसी तीसरे को अपने मामले में घसीट सकते हैं? कैसे एक इंसान दूसरे इंसान के साथ ऐसा कर सकता है? बच्ची की मां के साथ ढेरों कॉल्स पर बात करने के बाद उसने साफ कहा है कि पर्ल का इसमें कोई हाथ नहीं है। यह उसका पति है जो बेटी को अपने पास रखने के लिए कहानियां बना रहा है। वो यह साबित करना चाहता है कि एक सेट पर काम करने वाली कामकाजी मां अपने बच्चे का ध्यान नहीं रख सकती। अगर यह बात सच है तो यह बेहद गलत है।'

 

 

 

 

 

 

 

 

View this post on Instagram

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

A post shared by Erk❤️rek (@ektarkapoor)

एकता कपूर ने पोस्ट में आगे लिखा था, '#MeToo मूवमेंट का इस्तेमाल करके अपने एजेंडा को पूरा करना, एक बच्ची को टॉर्चर करना और एक निर्दोष व्यक्ति पर झूठा इल्जाम लगाना। मुझे सही और गलत बताने का कोई अधिकार नहीं है। कोर्ट सही और गलत का निर्णय लेगा। मेरा फैसला इस बात से आता है कि बच्ची की मां ने मुझसे रात को क्या बात की है। उसने मुझे बोला है कि पर्ल निर्दोष है। यह बात बेहद दुखद है कि लोग कामकाजी मांओं को बुरा दिखाने के लिए ऐसी हरकतें कर रहे हैं। मेरे पास पर्ल पर लगे झूठे इल्जामों के बारे में बात करते हुए सारे वॉइस नोट और मैसेज हैं। फिल्म इंडस्ट्री हर दूसरे बिजनेस जितनी सेफ और अनसेफ है। अपने एजेंडा को पूरा करने के लिए इसे बुरा बताना गिरे हुए से भी गिरी हरकत है।' 

Edited By: Anand Kashyap