- पराग छापेकर

स्टारकास्ट: रणवीर सिंह, आलिया भट्ट, कल्कि केकलां, विजत राज, विजय वर्मा आदि

निर्देशक: ज़ोया अख्तर

निर्माता: ज़ोया अख्तर, फरहान अख्तर, रितेश सिधवानी

बहुत कम फिल्मों के साथ ऐसा होता है कि उसके पहले ही टीजर से एक आम दर्शक उस फिल्म को देखने के लिए लालायित हो जाता है और गली बॉय के साथ कुछ ऐसा ही हुआ। फिल्म के आने के पहले ही देशभर में गली बॉय का प्रमोशन और उसकी चर्चाएं लगातार होती रहीं। जैसे दर्शक पहले ही तय कर चुका हो कि वह यह फिल्म ज़रूर देखेगा! यानी यह कहा जा सकता है कि ये फिल्म आने के पहले ही इसके सुपरहिट होने की घोषणा हो चुकी थी!

धारावी में रहने वाले एक नौजवान मुराद (रणवीर सिंह) जीवन की तमाम सारी विपरीत परिस्थितियों में रहा है। वो अपनी बचपन की गर्लफ्रेंड सफीना (आलिया भट्ट) के साथ एक आम ज़िंदगी जी रहा है। लेकिन, साथ ही साथ उसे लिखने का जुनून है। वह अपनी तमाम भावनाएं, ज़िंदगी के प्रति उसके नजरिए को अपनी कविताओं में डालता रहता है और एक दिन कैसे उसे एक सीनियर रैपर शेर का सपोर्ट मिलता है, उसके बाद गली बॉय की ज़िंदगी में कैसे-कैसे बदलाव आते हैं..इसी पर आधारित है फिल्म गली बॉय।

फिल्म में डायरेक्टर ज़ोया अख्तर की पकड़ हर फ्रेम पर नज़र आती है। उन्होंने बड़ी ही खूबसूरती से हर दृश्य और भावों को उकेरा है, जिसके लिए वो जानी जाती हैं। 

अभिनय की बात करें तो तूफान की एनर्जी समेटे रणवीर सिंह का इस किरदार में घुसना उनके लिए वाकई चैलेंजिंग रहा होगा जिसे उन्होंने सफलतापूर्वक निभाया। बगैर आत्मविश्वास के धारावी की झोपड़ियों में रहने वाला यह नौजवान जब बाहरी दुनिया देखता है और कैसे बिना आत्मविश्वास के ड़गमगाते हुए बाहरी दुनिया में प्रवेश करता है इसे रणवीर सिंह ने बेहद खूबसूरती से निभाया है। उसकी गर्लफ्रेंड सफीना के रूप में आलिया अपनी आंखों से ही ज्यादातर काम कर जाती हैं।

आलिया एक समर्थ अभिनेत्री हैं और उन्हें किसी भी किरदार में डाला जा सकता है। इसके अलावा शेर बने सिद्धांत चतुर्वेदी लाजवाब परफॉर्मेंस दिया है। लगता ही नहीं कि यह उनकी डेब्यू फिल्म है। विजय राज कल्कि केकलां ने भी अपना किरदार बेहतरीन ढंग से निभाया है। इसके अलावा मुराद के दोस्त बने मोईन (विजय वर्मा) ने भी अपना बेहतरीन परफॉर्मेंस दिया है।

तकनीक की बात करें तो यह फिल्म शानदार सिनेमैटोग्राफी के लिए जानी जाएगी। फिल्म की एडिटिंग भी उम्दा है। आर्ट, कॉस्ट्यूम और प्रोडक्शन डिपार्टमेंट अपने काम में 100% खरे उतरते हैं। संगीत फिल्म को एक अलग किरदार देता है, जो वाकई तारीफ के काबिल है।

कुल मिलाकर गली बॉय एक मनोरंजक फिल्म है। इसमें इमोशन है, इंटरटेनमेंट है और साथ ही है इंस्पिरेशन। इस उम्दा फिल्म को देखने आप सपरिवार जा सकते हैं। यह आपको कतई निराश नहीं करेगी।

जागरण डॉट कॉम रेटिंग: 5 (पांच) में से 4 (चार) स्टार

अवधि: 153 मिनट 

Posted By: Hirendra J