नई दिल्ली, जेएनएन। आख़िरकार, लगभग सात महीनों बाद 15 अक्टूबर से देश में सिनेमाघरों की तालाबंदी ख़त्म हो गई और कई राज्यों में बॉक्स ऑफ़िस की खनक फिर सुनाई देने वाली है। मगर, इस बार नज़ारा पहले काफ़ी अलग होगा। कोरोना वायरस पैनडेमिक के चलते केंद्र सरकार द्वारा जारी दिशा-निर्देशों का सख्ती से पालन करना होगा, जिसके लिए सिनेमाघर प्रबंधनों ने कमर कस ली है।

देश में थिएटर्स की सबसे बड़ी चेन पीवीआर सिनेमाज़ 10 राज्यों और 4 केंद्र शासित राज्यों में सिनेमाघर खोल रही है। पीवीआर की 71 शहरों में कुल 845 स्क्रींस हैं, जिनमें से 487 स्क्रींस गुरुवार से खोल दी जाएंगी। फ़िल्मों का प्रदर्शन 16 अक्टूबर शुक्रवार से शुरू होगा। ऑनलाइन टिकट ख़रीदने की सुविधा मध्यरात्रि से वेबसाइट पर बहाल कर दी जाएगी। पीवीआर सिनेमाज़ में हॉलीवुड फ़िल्म माई स्पाई दिखायी जाएगी, जिसकी बुकिंग शुरू कर दी गयी है।  

पीवीआर की ओर से एक वीडियो जारी करके दर्शकों को पूरी सुरक्षा का भरोसा दिलाया गया। कहा गया कि सिनेमा के अनुभव को सुरक्षित बनाने की पूरी कोशिश की गयी है। 

पीवीआर इसके अलावा कीनू रीव्स की जॉन विक 3, अजय देवगन की तानाजी- द अनसंग वॉरियर और तापसी पन्नू की थप्पड़ को दोबारा रिलीज़ करेगा। पीवीआर के सीईओ गौतम दत्ता को पूरी उम्मीद है कि इंडस्ट्री ज़ोरदार वापसी करेगी। 

आइनॉक्स ने अपने यहां सुरक्षा के कुछ ख़ास इंतज़ाम किये हैं। सिनेमा हॉल में एंट्री और एग्ज़िट के अलावा इंटरवल में भी मास्क और तापमान जांच अनिवार्य की गयी है। टिकटों की बिक्री पूरी तरह ऑनलाइन होगी। एक ही एसएमएस में QR कोड, सीट चार्ट और खाने-पीने का मेन्यु होगा। आइनॉक्स के सीईओ आलोक टंडन ने पीटीआई को बताया कि परिवार और छोटे समूहों के लिए प्राइवेट स्क्रीनिंग आयोजित करने की योजना पर भी काम किया जा रहा है, ताकि वो पूरा ऑडिटोरियम बुक करके अपनी पसंद की फ़िल्म का लुत्फ़ उठा सकें। 

सिनेमाघरों के सामने सबसे बड़ी चुनौतियां कोविड-19 के डर से निपटने और पुराने कंटेंट को प्रदर्शित करना है। इसके लिए उन्हें नये तरीक़ों के बारे में सोचना पड़ रहा है, क्योंकि नया कंटेंट आने में अभी वक़्त लगेगा। सिनेपोलिस के सीईओ देवांग सम्पत के मुताबिक़, हॉलीवुड और बॉलीवुड फ़िल्मों को रिलीज़ किया जा रहा है, जिनमें 1917, बाला, मलंग और थप्पड़ जैसी फ़िल्में शामिल हैं। 

बिहार के पूर्णिया में रूपबाणी सिनेमा चलाने वाले एग्ज़िबिटर विशेक चौहान ने पीटीआई को बताया कि उनके यहां सुशांत सिंह राजपूत की छिछोरे को दोबारा दिखाया जाएगा। सिनेमाघर में रिलीज़ होने वाली सुशांत की यह आख़िरी फ़िल्म है। हालांकि, उन्हें सूर्यवंशी, 83 और राधे जैसी बड़ी फ़िल्मों का इंतज़ार है, जिनसे दर्शकों के बड़ी तादाद में सिनेमाघरों में लौटने की उम्मीद है। 

कुछ राज्यों में नहीं खुलेंगे सिनेमाघर

देश में कुल 8750 स्क्रींस हैं, जिनमें े 3100 मल्टीप्लेक्स और 5650 सिंगल स्क्रींस हैं, जो अधिकांश छोटे शहरों में हैं। दिल्ली, मध्य प्रदेश, गुजरात और कोलकाता में दिशा-निर्देशों का पालन करते हुए सिनेमाघर खोले जा रहे हैं। हालांकि, काफ़ी स्क्रींस को खुलने में अभी वक़्त लगेगा। गुजरात में शनिवार से सिनेमाघर खुलने की सम्भावना है, क्योंकि पुरानी फ़िल्मों को दोबारा रिलीज़ करने के लिए शर्तों के तय होने में देरी हो रही है। 

केंद्र सरकार की अनुमति के बावजूद महाराष्ट्र, तमिलनाडु, केरल और छत्तीसगढ़ में सिनेमाघर अभी नहीं खुलेंगे। आंध्र प्रदेश के एग्ज़िबिटर्स ने भी गुरुवार से सिनेमाघर खोलने पर अभी फ़ैसला नहीं किया है। असम समेत नॉर्थ-ईस्ट राज्यों में भी अभी सिनेमा हॉल खोलने का निर्णय नहीं लिया गया है। 

(Photo- PVR Cinemas Website)

केंद्र सरकार के दिशा-निर्देशों के अनुसार, थिएटर की कुल क्षमता से 50 फ़ीसदी टिकटें ही बिकेंगी, क्योंकि दर्शकों को एक सीट छोड़कर बिठाया जाएगा। पूरे वक़्त मास्क पहनकर रहना होगा। वेंटिलेटर का सही इंतजाम होगा और तापमान 23 डिग्री से अधिक रखा जाएगा। (इनपुट- पीटीआई)

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस