मुंबई। साल 2018 अलविदा कहने की तैयारी कर रहा है, मगर जाते-जाते बॉक्स ऑफ़िस को ऐसे झटके दे रहा है, जिसकी चोट भुलाना आसान नहीं होगा। 'ठग्स ऑफ़ हिंदोस्तान' ऐसा ही एक झटका है, जिसकी मार से इस फ़िल्म के निर्माता-निर्देशक और कलाकार ही नहीं, दर्शक भी हैरान हैं। पिछले कुछ अर्से से आमिर ख़ान बॉक्स ऑफ़िस सफलता की गारंटी बने हुए हैं। उनकी फ़िल्म का मतलब है किसी नये रिकॉर्ड का बनना।

2017 में जब तेलुगु फ़िल्म 'बाहुबली2- द कन्क्लूज़न' के हिंदी वर्ज़न ने ₹511 करोड़ का कारोबार किया था तो इस बाहुबली रिकॉर्ड को तोड़ने के लिए हिंदी सिनेमा ने आमिर ख़ान की तरफ़ ही देखा, क्योंकि वो आमिर ख़ान ही हैं, जिनकी फ़िल्मों से भारतीय सिनेमा में 100, 200 और 300 करोड़ क्लबों की शुरुआत हुई थी। 2016 में आयी 'दंगल' ₹400 करोड़ क्लब से सिर्फ़ ₹13 करोड़ पीछे रह गयी थी।

'बाहुबली2' की अभूतपूर्व सफलता के बाद आमिर की 'ठग्स' आने वाली थी, लिहाज़ा उम्मीदों को पर लग गये और ₹500 करोड़ के आकाश में आमिर का तसव्वुर किया जाने लगा। मगर, आश्चर्यजनक रूप से 'ठग्स ऑफ़ हिंदोस्तान' ने सारी उम्मीदों पर पानी फेर दिया। फ़िल्म रिलीज़ के 13 दिनों में सिर्फ़ ₹147.30 करोड़ ही जमा कर सकी है और अब सिनेमाघरों से उतरने के कगार पर है। ठग्स का थिएटर्स में यह आख़िरी हफ़्ता साबित हो सकता है। उधर, भारी नुक़सान के बाद वितरकों और एग्ज़िबिटर्स ने रिफंड की मांग शुरू कर दी है। बहरहाल, ठग्स ऑफ़ हिंदोस्तान साल 2018 की सबसे बड़ी निराशा कही जाएगी, मगर अकेली नहीं। और भी फ़िल्में हैं, जिन्होंने दर्शकों के साथ बॉक्स ऑफ़िस को भी निराश किया है।

यमला पगला दीवाना फिर से

यमला पगला दीवाना फ्रेंचाइजी की तीसरी फ़िल्म में देओल्स परिवार ने एक साथ नज़र आया। धर्मेंद्र, बॉबी देओल और सनी देओल ने फ़िल्म का काफ़ी प्रमोशन भी किया। मगर, यह फ़िल्म 10 करोड़ का कलेक्शन करके फ्लॉप रही। धर्मेंद्र ने बाद में एक इंटरव्यू में कहा भी था कि उन्होंने यह फ़िल्म बेटों के लिए की थी।

रेस 3

सस्पेंस थ्रिलर फ्रेंचाइजी रेस के तीसरे पार्ट रेस 3 में इस बार सलमान ख़ान की एंट्री हुई। पहली दो फ़िल्मों में सैफ़ अली ख़ान लीड रोल में नज़र आये हैं। इस बार जब सलमान ने रेस 3 ज्वाइन की तो लगा कि फ़िल्म कमाई के रिकॉर्ड तोड़ेगी। ऊपर से ईद की रिलीज़, जो सलमान के लिए लकी रहती है। मगर, रेस 3 सिर्फ़ 169 करोड़ का कलेक्शन करके औसत घोषित की गयी। यानि सिर्फ़ अपना इंवेस्टमेंट ही निकाल सकी।

बत्ती गुल मीटर चालू

इस फ़िल्म से उम्मीदों की सबसे बड़ी वजह इसके निर्देशक एस नारायण सिंह थे, जिन्होंने अक्षय कुमार के साथ टॉयलेट एक प्रेम कथा बनायी थी। यह फ़िल्म क्रिटिकली और कमर्शियली हिट रही थी। इस फ़िल्म की तरह ही बत्ती गुल मीटर चालू सामाजिक मुद्दे पर आधारित थी, जिसमे बिजली विभाग में भ्रष्टाचार को हाइलाइट किया गया था। मगर, शाहिद कपूर और श्रद्धा कपूर के बावजूद फ़िल्म की बत्ती गुल रही और बॉक्स ऑफ़िस पर मीटर तो चालू ही नहीं हो सका। 37.26 करोड़ जमा करके फ़िल्म नुक़सान में रही। फ़िल्म अपनी लागत भी वसूलने में असफल रही।

नमस्ते इंग्लैंड

विपुल शाह ने नमस्ते लंदन के इस सीक्वल में अर्जुन कपूर और परिणीति चोपड़ा ने लीड रोल्स निभाये। 19 अक्टूबर को दशहरे के त्योहार पर रिलीज़ हुई नमस्ते लंदन बुरी तरह पिटी। फ़िल्म 8.25 करोड़ का कलेक्शन पर फ्लॉप रही। 

अय्यारी

स्पेशल 26 और बेबी जैसी फ़िल्में निर्देशित करने वाले नीरज पांडेय जब कोई फ़िल्म लेकर आते हैं तो उम्मीद की जाती है कि फ़िल्म बॉक्स ऑफ़िस पर चलेगी। मगर, अय्यारी आश्चचर्यजनक तौर पर फ्लॉप रही। सिर्फ़ 17 करोड़ का कलेक्शन किया, जबकि इसकी स्टार कास्ट में सिद्धार्थ मल्होत्रा और मनोज बाजपेयी जैसे एक्टर्स का नाम शामिल था।

Posted By: Manoj Vashisth