अनुप्रिया वर्मा, मुंबई। विवेक अग्निहोत्री लाल बहादुर शास्त्री की मौत पर फिल्म द ताशकेंट फाइल लेकर आ रहे हैं. इसे लेकर विवेक ने एक स्टेटमेंट जारी करते हुए कहा है कि सभी जानते हैं कि उनकी फिल्म 12 अप्रैल को रिलीज हो रही है.

ऐसे में उनकी फिल्म की रिलीज को रोकने के लिए पिछली रात एक कांग्रेस मेम्बर और एक पूर्व कांग्रेस सचिव जो कि लाल बहादुर शास्त्री के पोते भी हैं, उनका एक नोटिस मिला. ऐसा तब हुआ है कि जब कि उन्होंने दिल्ली के पीवीआर में खुद फिल्म देखी और तारीफ़ की. यही नहीं उन्होंने आभार भी जताया. लेकिन फिर विवेक ने आगे कहा है कि मुझे अपने करीबी सूत्रों से पता चला है कि उन्होंने ऐसा शीर्ष परिवार के दबाव में किया है. शास्त्री के पोतों को शीर्ष परिवार की मर्जी के तहत बलि का बकरा बनाने की कोशिश की जा रही है. मुझे यह सोच कर आश्चर्य होता है कि कांग्रेस के शीर्ष नेता ऐसा क्यों कर रहे हैं और मुझे इस फिल्म की कहानी दिखाने से रोकने की कोशिश क्यों कर रहे हैं, क्यों मुझे लगातार धमकी देने की कोशिश की जा रही है. वे लोग ऐसी फिल्म से क्यों डरे हुए हैं जो कि एक नागरिक को सत्य जानने के अधिकार को लेकर सवाल उठाती है. यह पहली फिल्म है जो पत्रकारों को समप्रित है. यह दुलर्भ फिल्म है, मैं पत्रकारों से उम्मीद करता हूं कि वह शीर्ष परिवार से सवाल करें कि क्यों वह इसे रोकना चाहते हैं, आखिर क्या कारण है कि वह इससे डर रहे हैं. 

आपको बता दें कि, भारत के दूसरे प्रधानमंत्री और अपनी सादगी के लिए बेहद लोकप्रिय लाल बहादुर शास्त्री के जीवन पर बन रही फिल्म ताशकंद फाइल्स 12 अप्रैल को रिलीज़ की जायेगीl कहा जाता है कि शास्त्री जी के ताशकंद समझौता साइन करने के 24 घंटे के बाद रहस्यमय परिस्थितियों में उनकी मृत्यु हो गई थी और इसके पीछे के कारण पर अब तक रहस्य बना हुआ हैl

Posted By: Rahul soni

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस