मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

नई दिल्ली, जेएनएन। एक्टर पंकज त्रिपाठी आज बॉलीवुड इंडस्ट्री के वो एक्टर हैं, जिन्हें हर कोई अपनी फिल्म में लेना चाहता है और हाल ही में पकंज त्रिपाठी कई फिल्मों में दिखाई भी दिए। अपनी एक्टिंग से लोगों के दिल में जगह बनाने वाले पंकज त्रिपाठी आज अपना 43वां जन्मदिन मना रहे हैं। पकंज त्रिपाठी आज भले ही जाना-पहचाना नाम है और अपनी फिल्म से कहानी में जान डालने वाले पकंज त्रिपाठी की सफलता के पीछे भी एक संघर्ष की कहानी है।

किसान परिवार में हुआ जन्म

पकंज त्रिपाठी का जन्म बिहार के गोपालगंज जिले के छोटे से शहर बेलसंद में हुआ था। उन्होंने अपनी स्कूली पढ़ाई के साथ साथ खेतीबाड़ी भी की और उसके बाद उन्होंने होटल मैनेजमेंट की पढ़ाई की और होटल में नौकरी भी की। उन्होंने एक इंटरव्यू में बताया था कि वो रात में होटल में काम करते थे और उसके बाद सुबह थियेटर करते थे और ऐसा उन्होंने करीब 2 साल तक किया।

जेल भी हुई थी

कॉलेज की राजनीति के दौरान एक्टर अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद का हिस्सा थे और 1993 के दौरान राज्य सरकार के खिलाफ आवाज उठाने पर उन्हें जेल हुई थी। उसके बाद उन्होंने एक्टिंग में करियर बनाने के लिए दिल्ली का रुख किया और यहां नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा में एडमिशन लिया। हालांकि एनएसडी में भी उन्हें काफी मुश्किलों के बाद और दो बार रिजेक्ट होने के बाद एडमिशन मिला था।

लंबे संघर्ष के बाद मिली गैंग्स ऑफ वासेपुर

दिल्ली में थियेटर करने के बाद पंकज त्रिपाठी मुंबई गए, जहां उन्होंने काफी संघर्ष किया। 2008 में उन्हें बाहुबली नाम की एक टेलीविजन सीरीज में काम करने का मौका मिला था। उसके बाद 2012 में मुंबई आने के आठ साल बाद उन्होंने गैंग्स ऑफ़ वासेपुर के लिए एक ऑडिशन दिया जोकि आठ घंटे तक चला था। इस फिल्म के बाद पंकज त्रिपाठी को खास पहचान मिली।

राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार जीत चुके पकंज त्रिपाठी कज त्रिपाठी दबंग 2 (2012), एबीसीडी: एनी बॉडी कैन डांस (2013), रंगरेज (2013), फुकरे (2013), अनवर का अजब किस्सा (2013), बरेली की बर्फी और हाल ही में कई फिल्मों में नजर आए। वेब सीरीज में भी पंकज त्रिपाठी ने काम किया और वो हाल ही में सेक्रेड गेम्स 2 में नजर आए, जिसे काफी पसंद किया जा रहा है।

 

Posted By: Mohit Pareek

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप