मुंबई। एक पुरानी कहावत है " बाप से बेटा सवाई ". अक्षय कुमार के मामले में ये बात एक बात एकदम फिट बैठती है क्योंकि उनका बेटा आरव भी ' एक बार जो सोचता है वो करता है और बिना सोचे शायद कुछ भी नहीं करता।'

दरअसल ये कहानी मुंबई की है जब अक्षय अपने परिवार के साथ एक मल्टीप्लेक्स में गए। पत्नी ट्विंकल और बेटे आरव के साथ। अब सब साथ हों और मीडिया को पता चले तो भला कैमरों की तंगी कैसे होगी। बस फिर क्या था। लग गई लाइन।इस बार अक्षय और ट्विंकल की तस्वीरों से ज़्यादा आरव की फोटो की अहमियत थी। पूछिए क्यों ? अभी कुछ दिन पहले आरव अपने दोस्तों के साथ किसी रेस्तरां में गए थे। वहां तस्वीरें खींची गई। गर्ल-दोस्त के साथ। आरव बचने की कोशिश करते रहे पर कैमरों में कैद हो गए।

 

लगता है उसी समय से आरव ने ज़िद पकड़ ली कि अब पेपराज़ियों को अपना चेहरा दिखाना ही नहीं है। अब हैं तो वो खिलाड़ी कुमार के बेटे। जिद का गुण तो गुणसूत्र (क्रोमोज़ोम) में होगा ही।

 

बस फिर क्या था। मल्टीप्लेक्स से बाहर निकलने और गाड़ी में बैठने तक हुड से अपने आप को इस तरह से कवर कर रखा कि मज़ाल है 'भोलीभाली सूरत ' किसी को नज़र आ जाए।

 

पर बात यही ख़त्म नहीं होती। कूल-कूल पापा बस बेटे की हरकत पर हंसे ही जा रहे थे।

ख़ूब ठहाके लगा कर। गाड़ी में बैठने से पहले। गाड़ी के अंदर और शायद घर पर भी।

यह भी पढ़ें:प्रियंका चोपड़ा की अमेरिका से आईं इन तस्वीरों को घूरना मना है 

दरअसल इन दिनों ज़माना स्टार किड्स का ही है। सारा, जाह्नवी , सुहाना , अनन्या और करन सहित कई सारे अक्सर कैमरों में कैद हो जाते हैं। और इस ब्रिगेड़ के सबसे छोटे तैमूर अली खान की तो पूछिये ही मत। पुराने ज़माने का रील वाला कैमरा होता तो शायद बाज़ार से अब तक स्टॉक ही ख़त्म हो गया होता।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021