मुंबई। अपनी फिल्मों के लिए लगातार सेंसर का एडल्ट सर्टिफिकेट पाने वाले फिल्म मेकर विशाल भारद्वाज को इस बार हैरान-परेशान हो कर कोई नहीं लड़ाई लड़ने की जरुरत नहीं पड़ेगी क्योंकि सेंसर बोर्ड ने ' रंगून ' के बालिगों की कैटेगरी में शामिल नहीं किया है।

ख़बर है कि सेंसर बोर्ड ने सैफ अली खान, कंगना रनौत और शाहिद कपूर स्टारर फिल्म रंगून देखने के बाद फिल्म को यू / ए सर्टिफिकेट दिया है। सूत्रों के मुताबिक बेहद बोल्ड और किसिंग सीन से भरी रंगून में सेंसर बोर्ड ने एडल्ट जैसी कोई बात नहीं पाई है इसलिए फिल्म को मामूली पांच कट्स के साथ यू/ए प्रमाणपत्र दिया गया है। बताया जा रहा है कि विशाल भारद्वाज ने फिल्म में सीमाओं को क्रॉस नहीं किया है इसलिए सेंसर को ज़्यादा कांटछांट करने की जरुरत नहीं पड़ी।

देखिए रंगून : साल 2017 का सबसे बड़ा धमाका !

ऐसा समझा जा रहा है कि इस बार विशाल भारद्वाज के अपने ट्रीटमेंट के अंदाज़ में बदलाव किया है इसलिए उन्हें ए सर्टिफिकेट से मुक्ति मिल गई। ऐसा इसलिए भी क्योंकि विशाल भारद्वाज का ए सर्टिफिकेशन के साथ लंबा इतिहास रहा है। साल 2013 में तब्बू और इरफ़ान स्टारर फिल्म ' मकबूल ' को , साल 2006 में आई मल्टीस्टारर ' ओमकारा ' को , साल 2009 में आई शाहिद कपूर स्टारर ' कमीने' और साल 2011 में आई प्रियंका चोपड़ा स्टारर ' सात खून माफ़' को को ए सर्टिफिकेट दिया गया था। साल 2014 में आई शाहिद-श्रद्धा कपूर स्टारर ' हैदर ' को यू/ ए सर्टिफिकेट भले ही मिला हो लेकिन सेंसर ने फिल्म में 41 जगह कट्स लगाए थे। 'कमीने' के समय तो विशाल और सेंसर की लड़ाई खुलकर सामने आई थी।

...और बाहुबली से साढ़े तीन साल बाद मिल गया इस एक्टर को छुटकारा

दूसरे विश्व युध्द के दौरान ' वार और प्यार ' की इस कहानी का ट्रेलर जारी कर दिया गया है जिसमें कई सारे सीन्स लोगों को प्रभावित कर रहे हैं। फिल्म रंगून 24 फरवरी को रिलीज़ होगी।

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021