रुपेशकुमार गुप्ता, मुंबई। वरुण धवन ने फिर दोहराया है कि सिर्फ वो ही नहीं उनकी माँ का भी सपना था कि उनका बेटा एक दिन शूजित सरकार जैसे मंझे हुए डायरेक्टर के साथ काम करे।

वरुण ने जागरण डॉट कॉम से हुई विशेष बातचीत में कहा कि उनसे अधिक उनकी माँ का सपना था कि वह फिल्म निर्देशक शूजित सरकार के साथ काम करें। वरुण ने बताया “मुझ से अधिक मेरी माँ चाहती थी कि मैं फिल्म निर्देशक शूजित सरकार के साथ काम करूँ। इसके पीछे कारण यह था कि उन्होंने शूजित दा कि 'पिंक', पीकू और 'मद्रास कैफे' जैसी फ़िल्में देख ली थीं तो उनकी चाह थी कि मुझे फिल्म निर्देशक शूजित सरकार के साथ काम करना चाहिए। फिर जैसे ही मुझे फिल्म अक्तूबर में काम करने का अवसर मिला तो मुझे लगता है जब माँ को इस बारे में पता चलेगा तो वो कितनी ख़ुश होंगी। हालाँकि जब भी माँ मुझे इस पर काम करने के लिए कहती तो पिता डेविड धवन कहा कहते थे कि हां वह तो इसके लिए खाली बैठा हुआ है”। वरुण धवन की यह पहली फिल्म है जिसमें वह शूजित सरकार के साथ काम कर रहे हैं। इस फिल्म में उनकी जोड़ी बनिता संधू के साथ है, जिनका ये बॉलीवुड डेब्यू है। फिल्म में संगीत शांतनु मोइत्रा ने दिया है और अक्टूबर 13 अप्रैल को रिलीज हो रही है।

वरुण ने एक इंटरव्यू में ये भी कहा कि जब वह फिल्म 'अक्टूबर' के सेट पर पहुंचे तो फिल्म पर काम करने वाले लोगों को देखकर वे भौचक्के रह गए। इसके पीछे कारण यह था कि फिल्म में कुल 11 राष्ट्रीय पुरस्कार से सम्मानित लोग काम कर रहे थे, जिनमें से हर कोई उसके काम में पारंगत था। एक वह ही थे, जिन्हें एक भी नेशनल अवार्ड नहीं मिला था। इसके चलते जैसे ही सीन शूट हुआ तो उनके पसीने छूटने लगे कि कही आज उनकी एक्टिंग की पोल न खुल जाए और वह एक्सपोस न हो जाए।

यह भी पढ़ें: October में हुई वरुण धवन की एेसी अग्नि परीक्षा

Posted By: Manoj Khadilkar

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप