नई दिल्ली, जेएनएन। TikTok Controversy: आजकल बॉलीवुड स्टार्स के साथ-साथ एक नया टर्म भी यूज रहा है। वो टर्म है टिकटॉक स्टार। इस वक्त एक ऐसे ही टिकटॉक स्टार फैज़ल सिद्दीकी की वजह से टिकटॉक विवादों में हैं। वीडियो प्लेटफॉर्म पर आपत्तिजनक वीडियो को लेकर महिला आयोग ने संज्ञान भी लिया है। लेकिन यह पहली बार नहीं है, जब टिकटॉक विवादों में आया हो। पहले भी भारत समेत दुनिया के कई देश इस पर बैन लगा चुके हैं।

इस वक्त का विवाद

टिकटॉक को लेकर वर्तमान विवाद फैज़ल सिद्दीकी नाम के एक यूजर्स के वीडियो से शुरू हुआ। फैज़ल के एक वीडियो पर एसिड अटैक को बढ़ावा देने का आरोप लगा। इसके बाद इस मुद्दे पर राष्ट्रीय महिला आयोग ने संज्ञान लिया और पुसिल से एक्शन लेने को कहा। इसके बाद से कई ऐसे वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहें हैं, जिसमें यौन हिंसा और जानवरों पर हिंसा को बढ़ावा देने का आरोप लग रहा है।  ट्विटर पर टिकटॉक से संबंधित कई ट्रेंडस टॉप में शामिल हैं।

जब मद्रास हाईकोर्ट ने लगाया बैन

अप्रैल 2019 में टिकटॉक के कंटेंट पर सवाल उठे। अश्लील सामाग्री और यौन हिंसा के कंटेंट पर मद्रास हाईकोर्ट ने सुनवाई की। इसके बाद मद्रास हाईकोर्ट ने आपत्तिजनक कंटेंट को लेकर टिकटॉक पर बैन लगा दिया। हालांकि, बाद में बाइटडांस ने कोर्ट में लोगों के नौकरियों का हवाला दिया। इसके मद्रास हाईकोर्ट की मदुरै पीठ ने इस शर्त के साथ एप से बैन को हटा लिया कि इस मंच पर बच्चों और महिलाओं से जुड़े अश्लील वीडियो नहीं होने चाहिए।

अमेरिका ने लगाया था जुर्माना

अमेरिका भी बाल यौन हिंसा के मामले में टिकटॉक पर जुर्माना लगा चुका है। अमेरिका में टिकटॉक पर 13 साल से कम उम्र के बच्चों के अकाउंट को लेकर मामला उठाया गया था। इसके साथ ही प्राइवेसी और बच्चों की बुलिंग का मामला भी सामने आया था। फरवरी 2019 में आरोप सिद्ध होने के बाद फेडरल ट्रेड कमीशन ने टिकटॉक पर 5.7 बिलयन डॉलर का जुर्माना लगाया था। 

इसे भी पढ़ें- Raktanchal: 'रंगबाज' और 'मिर्ज़ापुर' के बाद अब पूर्वांचल के क्राइम की कहानी लेकर आ रही है ये वेब सीरीज़

इंडोनेशिया और बांग्लादेश भी लगा चुके हैं बैन

इंडोनेशिया और बांग्लादेश भी टिकटॉक पर बैन लगा चुके हैं। साल 2018 में इंडोनेशिया ने नकारात्मक कंटेंट को देखते हुए टिकटॉक पर बैन लगा दिया था। हालांकि, इसके तीन हफ्ते बाद इस बैन को हटा लिया गया। इसके अलावा बंग्लादेश में टिकटॉक इंटरनेट यूजर्स के लिए उपलब्ध नहीं है। बांग्लादेश ने यह कार्रवाई फरवरी 2019 में की थी।

Posted By: Rajat Singh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस