मुंबई। नीरज पांडेय की फ़िल्म 'एमएस धोनी- द अनटोल्ड स्टोरी' पहली ऐसी बायोपिक फ़िल्म बन गई है, जिसने बॉक्स ऑफ़िस पर 100 करोड़ से ज़्यादा कारोबार किया है और इस शानदार कामयाबी के मौक़े पर चौक्का मारना चाहते हैं फ़िल्म में धोनी बने सुशांत सिंह राजपूत।

30 सितंबर को रिलीज़ हुई 'एमएस धोनी...' अब तक 128 करोड़ का कलेक्शन घरेलू बॉक्स ऑफ़िस पर कर चुकी है। इस शानदार कलेक्शन के साथ 'एमएस धोनी...' ने मिल्खा सिंह की बोयपिक फ़िल्म 'भाग मिल्खा भाग' को पीछे छोड़ दिया है, जो अब तक की सबसे ज़्यादा कमाई करने वाली बायोपिक फ़िल्म थी। यही नहीं 'एमएस धोनी...' ने अक्षय कुमार की पिछली फ़िल्म 'रुस्तम' को भी कमाई के मामले में पीछे कर दिया है। 'रुस्तम' को नीरज ने को-प्रोड्यूस किया था। सुशांत को अपने फ़िल्मी करियर में इतनी बड़ी सक्सेस पहली बार हासिल हुई है और एक समझदार एक्टर की तरह वो इस गोल्डन चांस को हाथ से जाने नहीं देना चाहते।

आलिया भट्ट की लाइफ़ में कुछ ठीक नहीं चल रहा, मदद को आए शाह रूख़ ख़ान

इंडस्ट्री इनसाइडर्स के मुताबिक, सुशांत एक फ़िल्म के लिए क़रीब 2 करोड़ के आस-पास चार्ज करते हैं। एमएस धोनी के लिए भी उन्होंने इतनी ही फ़ीस ली है, पर अब वो 3.5-4 करोड़ तक फ़ीस चाहते हैं। ये बात सुशांत ने अपने मैनजरों के ज़रिए इंडस्ट्री तक पहुंचा दी है।

ऐ दिल है मुश्किल में कुछ इस अंदाज़ में होगी शाह रूख़ ख़ान की एंट्री

हालांकि सुशांत की इस फीस हाइक से इंडस्ट्री में अच्छा संदेश नहीं गया है। लोगों का मानना है कि 'एमएस धोनी...' को कामयाबी धोनी के स्टारडम की वजह से मिली है। सुशांत को ये ग़लतफ़हमी है कि फ़िल्म की सक्सेस के पीछे उनका स्टारडम है।

Posted By: Manoj Kumar