मुंबई। सुप्रीम कोर्ट ने 'पद्मावत' की रिलीज़ के ख़िलाफ़ मध्य प्रदेश और राजस्थान की राज्य सरकारों द्वारा दायर याचिकाओं को नामंजूर कर दिया है और इस मामले में अपने पूर्वादेश को कायम रखा है, जिसके बाद साफ़ हो गया है कि 'पद्मावत' किसी भी राज्य में बैन नहीं हो सकेगी।

केंद्रीय फ़िल्म प्रमाणन बोर्ड द्वारा प्रमाणित करने के बावजूद राजस्थान, हरियाणा, मध्य प्रदेश और गुजरात की सरकारों ने एलान कर दिया था कि वे अपने राज्यों में 'पद्मावत' को रिलीज़ नहीं होने देंगे। राज्यों ने क़ानून व्यवस्था बिगड़ने का हवाला देकर प्रदर्शन पर रोक लगाने की घोषणा की थी, जिसके ख़िलाफ़ 'पद्मावत' के प्रोड्यूसर्स सुप्रीम कोर्ट चले गये। उच्चतम न्यायालय ने अपने फ़ैसले में कहा कि सीबीएफ़सी द्वारा फ़िल्म को प्रमाण पत्र (UA) जारी करने के बाद राज्य सरकारें इस पर रोक नहीं लगा सकतीं। शीर्ष अदालत ने फ़िल्म के प्रदर्शन के साथ ही सिनेमाहालों को सुरक्षा मुहैया कराने का भी आदेश दिया।

यह भी पढ़ें: पद्मावत विरोध की आग ठंडी करने के लिए रणवीर सिंह ने खेला ऐसा दांव

ये आदेश आने के बाद राजस्थान और मध्य प्रदेश की सरकारों ने एक बार फिर सुप्रीम कोर्ट का रुख़ किया और सोमवार (22 जनवरी) को पुनर्विचार याचिका डाली। इसकी सुनवाई आज मंगलवार (23 जनवरी) को हुई, जिसके बाद दोनों राज्यों की याचिकाओं को शीर्षस्थ न्यायालय ने 'मोडिफाई' करने से इंकार कर दिया। यानि कोई भी राज्य अपने यहां 'पद्मावत' के प्रदर्शन पर प्रतिबंध नहीं लगा सकेगा।

इसके बाद स्पष्ट हो गया है कि 'पद्मावत' 25 जनवरी को रिलीज़ होगी और अब कोई राज्य सरकार इसके प्रदर्शन को अपने यहां प्रतिबंधित नहीं कर सकती। हालांकि देश के अलग-अलग हिस्सों में करणी सेना समेत दूसरे राजपूत संगठनों का 'पद्मावत' की रिलीज़ के ख़िलाफ़ उग्र प्रदर्शन जारी है। रास्ता जाम करने से लेकर वाहनों को भी आग के हवाले करने की ख़बरें आ रही हैं। राजस्थान के सवाई माधोपर में करणी सेना ने मार्च निकालकर फ़िल्म के ख़िलाफ़ प्रदर्शन किया है। उधर, ख़बरें ये भी आ रही हैं कि करणी सेना 'पद्मावत' देखने के लिए राज़ी हो गयी है। भंसाली ने सेना को पत्र लिखकर इसकी पेशकश की थी। 

यह भी पढ़ें: पैडमैन की दरियादिली से गदगद पद्मावती, खिलजी बोले- शुक्रिया अक्षय सर

सूफ़ी संत मलिक मुहम्मद जायसी के काव्य पद्मावत पर आधारित फ़िल्म में दीपिका पादुकोण रानी पद्मिनी के किरदार में हैं, जबकि शाहिद कपूर महारावल रतन सिंह बने हैं, वहीं रणवीर सिंह ने दिल्ली सल्तनत के सुल्तान अलाउद्दीन खिलजी का रोल प्ले किया है। करणी सेना का दावा था कि फ़िल्म में खिलजी और पद्मिनी पर एक ड्रीम सीक्वेंस के दौरान प्रेमालाप दिखाया गया है। हालांकि भंसाली और फ़िल्म के निर्माता शुरू से करणी सेना के इस दावे को खारिज़ करते रहे हैं।

Posted By: Manoj Vashisth