नई दिल्ली, जेएनएन। बॉलीवुड में यह बात किसी से छिपी नहीं है कि सनी देओल और शाह रुख़ ख़ान के बीच रिश्ते अच्छे नहीं रहे। दोनों ने यश चोपड़ा की फ़िल्म डर में साथ काम किया था, इसके बाद कभी साथ नहीं आये। इस फ़िल्म के दौरान हुए मनमुटाव के बाद दोनों ने सालों एक-दूसरे से बात नहीं की, मगर अब लगता है कि सनी की ही फ़िल्म दामिनी की वजह से इन दोनों सितारों के बीच दुश्मनी की दीवार गिर रही है।

मुंबई मिरर की एक रिपोर्ट के मुताबिक़, सनी देओल बेटे करण को लेकर अपनी नेशनल अवॉर्ड विनिंग फ़िल्म दामिनी को रीमेक करना चाहते हैं। इस फ़िल्म के राइट्स निर्माताओं अली और करीम मोरानी से शाह रुख़ की कंपनी रेड चिलीज़ एंटरटेनमेंट ने ख़रीद लिये थे। जब किंग ख़ान को सनी की मंशा के बारे में पता चला तो उन्होंने ख़ुद सनी को फ़िल्म के राइट्स दे दिये। रिपोर्ट में तो यह भी दावा किया गया है कि लॉकडाउन से कुछ वक़्त पहले ही शाह रुख़ फ़िल्म के राइट्स देने ख़ुद सनी के जुहू स्थित बंगले पर गये थे। 

क्या है सनी-शाह रुख़ की अदावत का किस्सा 

सनी देओल ने इंडिया टीवी के कार्यक्रम में शाह रुख़ के साथ मनमुटाव की घटना का ज़िक्र किया था। जब सनी से पूछा गया कि क्या शाह रुख़ और यश चोपड़ा सेट पर उसे डरते थे तो सनी ने कहा- मुझे लगता है कि वो इसलिए डरते थे क्योंकि वो ग़लत थे।

उस घटना को याद करते हुए सनी ने बताया- मैं एक सीन कर रहा था, जिसमें शाह रुख़ मुझे चाकू मारते हैं। इसको लेकर मेरी यश चोपड़ा से तीखी बहस हुई थी। मैंने उन्हें समझाने की कोशिश की थी कि फ़िल्म में में एक कमांडो ऑफ़िसर हूं, मेरा किरदार एक्सपर्ट है, मैं शारीरिक रूप से फिट हूं। फिर यह लड़का कैसे इतनी आसानी से मुझे पीट सकता है। वो मुझे हरा सकता है, अगर मैं उसे ना देखूं। अगर मैं उसे देख रहा हूं, फिर भी वो मुझे चाकू मार देता है तब मैं कमांडो नहीं कहलाऊंगा। 

सनी ने बताया था कि यश जी उम्रदराज़ थे, इसलिए मैं उनका सम्मान करता था और कुछ कह नहीं सका। मैंने अपने हाथ अपनी जेब में रख लिये। मैं बहुत गुस्सा था, जिसकी वजह से मुझे महसूस ही नहीं हुआ कि मैंने अपने हाथों से अपनी पैंट फाड़ दी है। 

इसके बाद सनी और शाह रुख़ के बीच 16 सालों तक कोई बातचीत नहीं हुई। इस पर सनी ने बताया था कि ऐसा नहीं कि मैंने बात नहीं की, लेकिन मैंने ख़ुद को किनारे कर लिया था और मैं ज़्यादा मिलता-जुलता नहीं। इसलिए कभी मुलाक़ात नहीं हुई तो बात करने की बात ही नहीं है। 

दामिनी के लिए सनी को मिला था नेशनल अवॉर्ड

दामिनी का निर्देशन राजकुमार संतोषी ने किया था। फ़िल्म में ऋषि कपूर और मीनाक्षी शेषाद्रि ने लीड रोल निभाये थे। सनी फ़िल्म में सहयोगी किरदार में थे, मगर अपनी दमदार भूमिका के लिए उन्हें बेस्ट सपोर्टिंग एक्टर का नेशनल अवॉर्ड जीता था। सनी की पॉवरफुल परफॉर्मेंस और ढाई किलो का हाथ, तारीख़ पे तारीख़ जैसे डायलॉग आज भी यादों में ताज़ा हैं। सनी ने बेटे करण को पल पल दिल के पास से 2019 में लांच किया था, मगर फ़िल्म फ्लॉप रही थी।

Posted By: Manoj Vashisth

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस