मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

मुंबई। 'ज़ीरो' के बुरी तरह असफल होने के बाद शाह रुख़ ख़ान के करियर को लेकर तमाम तरह की चर्चाएं चल निकली हैं। कहा जा रहा है कि अंतरिक्ष यात्री राकेश शर्मा की बायोपिक 'सारे जहां से अच्छा' शाह रुख़ नहीं कर रहे हैं, पहले 'डॉन 3' लेकर आएंगे, ताकि डांवाडोल होते करियर को संभाल सकें। ऐसी ही चर्चाओं के बीच अब एक ऐसी ख़बर आ रही है, जिसे जानकर आप चौंक जाएंगे।

मीडिया रिपोर्ट्स में शाह रुख़ की बातचीत के हवाले से कहा जा रहा है कि वो अबराम की वजह से निर्देशन में नहीं आना चाह रहे हैं। शाह रुख़ का कहना है कि निर्देशन के लिए उन्हें दो साल तक एक ही कमरे में बंद होना पड़ेगा। अबराम के साथ कहानी लिखना ज़रा मुश्किल है और वो उनके बचपन को मिस नहीं करना चाहते। वैसे किंग ख़ान की इस बात से कोई भी इत्तेफ़ाक़ रखेगा। कुछ दिन पहले उन्होंने एक फोटो डाली थी, जिसमें अबराम के साथ वो आराम की मुद्रा में सोफे पर सुस्ता रहे हैं। 

इन्हें इस अवस्था में देखकर कई लोगों को सर्दियों की गुनगुनी धूप सेंकना याद आ सकता है। शाह रुख़ ने इस तस्वीर के साथ लिखा है- वीकेंड रिसर्च- एक सर्वे में पता चला है कि तीन में से एक आदमी उतना ही आलसी होता है, जितने कि बाकी दो। हम दोनों दूसरे वाले दो हैं और हम इसे मानने को तैयार नहीं हैं... मॉम। इसके बाद उन्होंने दो तस्वीरें और पोस्ट कीं, जिनमें से एक में वो अबराम के साथ हैं, जबकि दूसरे में बड़े बेटे आर्यन और अबराम हैं। इन तस्वीरों से अंदाज़ा लग जाता है कि शाह रुख़ वाकई अबराम के बचपन को खुलकर एंजॉय करना चाहते हैं। 

2013 में अबराम का जन्म सरोगेसी के ज़रिए हुआ था और शुरू से ही उनको लेकर गॉसिप होता रहा है। कुछ अर्सा पहले ख़ुद शाह रुख़ ने टेड टॉक में ऐसी ही एक अफ़वाह का ज़िक्र करते हुए अपनी बात रखी थी। अफ़वाह थी कि अबराम, उनके बड़े बेटे आर्यन और उनकी रोमानियन गर्लफ्रेंड का लव चाइल्ड है। इस बारे में शाह रुख़ ने कहा था- ''चार साल पहले, मेरी पत्नी गौरी और मैंने तीसरे बच्चे के बारे में तय किया था। नेट पर दावा किया गया था कि यह हमारे पहले बच्चे, आर्यन जो 15 साल का है, उसका लव चाइल्ड है। कहा गया था कि रोमानिया में कार चलाते वक़्त उसने एक लड़की के साथ वक़्त बिताया था और इसका एक फ़र्ज़ी वीडियो भी मौजूद था। एक परिवार होने के नाते हम लोग बेहद परेशान थे। मेरा बेटा, जो अब 19 साल का है, उसके पास तो यूरोपियन ड्राइविंग लाइसेंस भी नहीं है।'' 

बहरहाल, शाह रुख़ फिलहाल अपना सारा फोकस नन्हे अबराम पर लगाना चाहते हैं, क्योंकि जिस वक़्त आर्यन और सुहाना बड़े हो रहे थे, उस समय शाह रुख़ का सारा ध्यान उनके करियर पर था। शायद इसीलिए अब वो अबराम का बचपन मिस नहीं करना चाहते। 

उधर, शाह रुख़ के करियर की बात करें तो ख़बरें हैं कि राकेश शर्मा की बायोपिक सारे जहां से अच्छा को किंग ख़ान ने फ़िलहाल होल्ड कर दिया है। ज़ीरो के अप्रत्याशित असफलता के बाद शाह रुख़ ऐसी फ़िल्म करना चाहते हैं, जिससे बॉक्स ऑफ़िस पर उनकी ढीली पड़ती पकड़ फिर से मज़बूत हो सके। इसीलिए फ़रहान अख़्तर के साथ वो डॉन3 को लेकर ज़्यादा उत्साहित हैं। सुनने में आ रहा है कि डॉन सीरीज़ की यह आख़िरी फ़िल्म होगी और इसे डॉन- द फाइनल चैप्टर नाम दिया जा रहा है। हालांकि मेकर्स की तरफ़ से अभी कोई पुष्टि नहीं की गयी है। ख़बर यह भी है कि फ़िल्म को डायरेक्ट करने के साथ फ़रहान पुलिस अफ़सर का किरदार भी निभाएंगे। 

Posted By: Manoj Vashisth

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप