मुंबई। सलमान ख़ान की फ़ैन फॉलोइंग अटूट है। हिट और फ्लॉप से परे। उनकी फ़िल्म आती है तो जश्न का माहौल होता है। समीक्षक कमियां निकालते रह जाते हैं। फ़ैंस सलमान की फ़िल्म का टेम्पो हाई रखते हैं। अपनी वफ़ादार फ़ैन फॉलोइंग के दम पर सलमान सालों से बॉक्स ऑफ़िस पर राज करते आ रहे हैं। सलमान ने जब-जब असफलता का मुंह देखा, इन्हीं फै़ंस ने उन्हें दोगुने दम से वापस भेजा। इस साल सलमान की 'रेस3' रिलीज़ हुई। फ़िल्म को समीक्षकों ने धो दिया था। सोशल मीडिया में सलमान के विरोधी मीम्स के ज़रिए फ़िल्म का मज़ाक उड़ा रहे थे, मगर जैसे ही फ़िल्म ने 3 दिनों में 100 करोड़ की कमाई की। माहौल ही बदल गया। उसी माहौल को समेटती सलमान की फ़ैन फॉलोइंग पर यह रपट- 

''सोमवार का दिन है। सोशल मीडिया का मिज़ाज कुछ अलग है। ट्विटर की चिड़िया फुल वॉल्यूम में चहक रही है और इंस्टाग्राम का कैमरा भी हरकत में आ चुका है। सोशल मीडिया का हर प्लेटफॉर्म भाईजान पर बने मीम और चुटकलों से अटा पड़ा है। मगर, अब इन मीम और चुटकलों का मजमून बदल चुका है।

कल तक जिन मीम और जोक्स के निशाने पर सलमान ख़ान और 'रेस 3' थी, अब इन मीम और जोक्स के पलटवारों में सलमान ख़ान हेटर्स (ट्विटर पर इसी नाम से हैशटैग बनाकर रेस 3 का उपहास उड़ाने वालों को घेरा जा रहा है) हैं। इन मीम के ज़रिए बताया जा रहा है- बॉस, किसी मुग़ालते में ना रहिए, बॉक्स ऑफ़िस के असली किंग सलमान ख़ान ही हैं।''

स्मार्टफोन धारी दर्शक बेहद चतुर है। वो खाली-पीली हवा में बातें नहीं करता, अपने दावों को दमदार बनाने के लिए आंकड़ों का सहारा लेता है। डिजिटल मीडिया का दौर है, आंकड़ों का कहीं कोई टोटा नहीं है। सूचना तंत्र बेहद मजबूत है और जानकारी इधर से उधर होने में भी वक़्त नहीं लगता।

''सोमवार की सुबह जैसे ही ख़बर फैली कि 'रेस 3' ने ओपनिंग वीकेंड में 100 करोड़ का आंकड़ा पार कर लिया है, सलमान के फ़ैंस और फॉलोअर्स ने सोशल मीडिया में मोर्चा संभाल लिया। पूरी तैयारी करके बैठे सलमान के ये दीवाने 'रेस 3' के आंकड़ों के ज़रिए आलोचकों को असली स्टारडम की परिभाषा समझा रहे थे। साथ ही वो इस बात पर ज़ोर देना नहीं भूलते कि 'रेस 3' की यह कमाई तब है, जबकि फ़िल्म के ख़िलाफ़ जमकर नकारात्मक प्रचार किया गया।''

यह तो रही आभासी दुनिया की बात। आइए, अब ट्विटर, फेसबुक और इंस्टाग्राम की दुनिया से बाहर निकलकर वास्तविक दुनिया में आते हैं, जहां लाइक, डिस्लाइक और वायरल जैसे प्रतीकों के बजाए सलमान ख़ान के फैंस और फॉलोअर्स की चलती-फिरती तस्वीर आंखों के सामने है और यक़ीन मानिए यह तस्वीर अद्भुत है, जिसमें सलमान ख़ान सिर्फ़ एक फ़िल्म कलाकार का नाम नहीं बल्कि एक कल्ट है।

'भाई की फ़िल्म आयी है, ऑटोरिक्शा की सवारी मुफ़्त'

15 जून। रेस 3 रिलीज़ हो गयी है। मुंबई के बांद्रा इलाक़े का मशहूर थिएटर गेटी गैलेक्सी सलमान ख़ान के फैंस की दीवानगी के लिए जाना जाता है। एक तो वो फैन है, जो सलमान की फ़िल्म देखने के लिए लाइन में लगकर जेब से पैसा खर्च करके टिकट ख़रीदता है। दूसरा फैन वो है, जो सलमान ख़ान की फ़िल्मों के दर्शकों को सिनेमाघर तक पहुंचाता है और इसके बदले में कोई पैसा चार्ज नहीं करता।

गेटी गैलेक्सी में सिनेमा देखने वाले इस बात से अच्छी तरह वाकिफ़ हैं कि जब यहां सलमान की फ़िल्म लगती है तो पहले दिन कुछ ऑटोरिक्शा चालक दर्शकों को सिनेमाघर तक पहुंचाने के लिए भाड़ा नहीं लेते। यह परंपरा कुछ सालों से चली आ रही है। ये फैन सलमान की फ़िल्म किक के उस किरदार की तरह ही हैं, जो दिल में तो आता है, पर समझ में नहीं।

यह भी पढ़ें: भाईगीरी की अनूठी मिसाल, इन एक्ट्रेसेज़ को दिया बॉलीवुड में ब्रेक

सलमान ख़ान के फैनडम को लेकर ऐसी कई कहानियां दंत कथाओं के माफिक अक्सर कही और सुनी जाती हैं, जो एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी को विरासत में मिलती हैं। हर सुपरस्टार की अपनी एक फैन फॉलोइंग होती है। सिनेमा के आरम्भिक दौर से ही अलग-अलग कालखंडों में ऐसे सुपरस्टार पैदा होते रहे हैं, जिनके स्टारडम की कहानियां सुनने वालों को फेसिनेट करती रही हैं। हालांकि कई बार ये कहानियां अतिरंजित तथ्यों से भरी रहती हैं, जिसकी वजह से इनमें शामिल फैंस की दीवानगी की इंतेहा सच्चाई से परे लगती है, मगर सलमान ख़ान के लिए उनके फैंस का पागलपन देखकर, ऐसी कहानियों पर यक़ीन ना करने की कोई वजह नहीं रह जाती।

'बच्चा-बच्चा जानता है गैलेक्सी अपार्टमेंट का नाम'

सलमान के फैंस की उनके लिए दीवानगी देखनी है तो बांद्रा के गैलेक्सी अपार्टमेंट का चक्कर लगाना ज़रूरी है। सोशल मीडिया में किसी पोस्ट के बहुत चलने पर प्रयोग होने वाले वायरल शब्द का मतलब यहां आंखों से देखा जा सकता है। ईद का त्योहार हो या अदालत में पेशी के बाद सलमान ख़ान की वापसी, उनके चाहने वालों की भीड़ हमेशा उनके अपार्टमेंट के बाहर दिख जाती है। सैकड़ों की तादाद में भीड़ की तरफ़ हाथ हिलाते सलमान की फोटो जब किसी अख़बार या स्मार्टफोन के ज़रिए हज़ारों किलोमीटर दूर स्थित किसी गांव या क़स्बे में पहुंचती है तो गैलेक्सी अपार्टमेंट का नाम उस फैन के लिए भी अपरिचित नहीं रह जाता।

'हिट-फ्लॉप से परे है फैंस की दीवानगी'

फैंस की यही दीवानगी दरअसल सलमान ख़ान की ताक़त है और वही उन्हें बॉक्स ऑफ़िस पर अविजित बनाती है। अपनी फ़िल्मों के ज़रिए सलमान ख़ान ने साल-दर-साल अपनी फैन फॉलोइंग में ज़बर्दस्त इजाफ़ा किया है। सलमान भी अब अपने फैंस की क़द्र करते हैं और उनके इस जज़्बे को सलाम करते हैं। रेस 3 के लिए किये गये एक इंटरव्यू में सलमान कहते हैं- ‘’मेरी फ़िल्म हिट हो या फ्लॉप। मेरे घर के बाहर फैंस की भीड़ कम नहीं हुई है।‘’ सलमान बताते हैं कि यह सिलसिला मैंने प्यार किया के बाद से ही शुरू हो गया था और आज भी बदस्तूर जारी है। वक़्त के साथ सलमान की फैन फॉलोइंग का दायरा बढ़ा है तो अपने फैंस के लिए सलमान ख़ुद भी ज़िम्मेदार हुए हैं। 

'मदद के लिए तैयार रॉबिनहुड सलमान'

यह भी पढ़ें: दबंग ख़ान की इन सफल फ़िल्मों का सीक्रेट जानकर दंग रह जाएंगे

सलमान के लिए फैंस के इस बेपनाह और बिना शर्त वाले प्यार के फलने-फूलने के पीछे कई कारण हैं। फ़िल्म इंडस्ट्री को नज़दीक से देखने वाले बताते हैं कि पर्दे पर सलमान ख़ान के काम ने अगर उनके चाहने वालों की तादाद बढ़ाई है तो पर्दे के बाहर उनकी रॉबिनहुड वाली इमेज ने उस फैन फॉलोइंग को लॉयल बनाया। मीडिया में अपने खरे-खरे एटीट्यूड के लिए मशहूर सलमान जब फैंस के बीच होते हैं, तो उनका अंदाज़ ही बदल जाता है। सलमान को नज़दीक से जानने वाले बताते हैं कि फैंस अगर सलमान के लिए दीवाने हैं तो सलमान भी उनके लिए कम क्रेज़ी नहीं हैं। ऐसी घटनाएं अक्सर मीडिया सर्किल में चर्चा का विषय बनती हैं।

एक बार किसी फैन ने सलमान की टी-शर्ट की तारीफ़ कर दी। सलमान ने उसी वक़्त टी-शर्ट उतारकर फैन को तोहफे के रूप में दे दी। एक बार इसी तरह अपनी घड़ी सलमान किसी फैन को दे चुके हैं। साइक्लिंग के शौकीन सलमान एक फैन को साइकिल भी गिफ्ट कर चुके हैं।

बीइंग ह्यूमेन भाईजान

अपनी संस्था बीइंग ह्यूमेन के ज़रिए सलमान जो चैरिटी करते हैं, उसकी ख़बरें एक बड़े तबके को प्रभावित करती हैं। निजी जीवन में हुई नकारात्मक घटनाओं के बावजूद सलमान की स्वीकार्यता में कमी नहीं आयी। उल्टा उसमें इजाफ़ा हुआ। सोशल मीडिया में सलमान को लेकर चलने वाली बहसों में उनके इस पहलू को फैंस ख़ूब हाइलाइट करते हैं। एक आंकलन के मुताबिक़, बीइंग ह्यूमन के ज़रिए सलमान पिछले कुछ सालों में लगभग 47 करोड़ रुपए समाज सेवा के कार्यों में ख़र्च कर चुके हैं। कैंसर पीड़ित बच्चों का इलाज करवाना हो या किसी की आर्थिक मदद करना। सलमान के इस एटीट्यूड से मीडिया भी परिचित है। सलमान को सालों से कवर करने वाले मीडिया के लोगों के पास उनकी दरियादिली के क़िस्सों की कमी नहीं है।

ऐसी ही एक फ़िल्म पत्रकार बताती हैं कि इंटरव्यू के लिए संदेश भेजने पर भाई भले ही जवाब ना दें, लेकिन अगर मदद के लिए सलमान को संदेश भेजा जाए तो उनकी टीम ज़रूर संपर्क करेगी। एक कैमरामैन की मदद करने का क़िस्सा तो एकदम ताज़ा है। दुर्घटना में ज़ख्मी हुए इस कैमरामैन की सलमान ने आर्थिक रूप से मदद की थी। सलमान की दरियादिली की ऐसी ख़बरें जब उनके फैंस के बीच पहुंचती हैं तो लाज़िमी है अपने हीरो के लिए उनके दिलो-ज़हन में प्यार और सम्मान बढ़ता है।

बैचलर फैमिली मैन सलमान ख़ान

‘रेस 3’ में सलमान ख़ान एक डायलॉग बोलते हैं- परिवार के लिए अगर किसी की जान भी लेनी पड़े तो हम पीछे नहीं हटेंगे।  अगर इस लाइन में से फ़िल्मी नाटकीयता और अतिरंजना निकाल दें तो यह लाइन रियल लाइफ़ के सलमान ख़ान को भी डिफाइन करती है।

सलमान भले ही अभी तक कुंवारे हैं, मगर उनकी छवि एक पारिवारिक शख़्स की है। सलमान गैलेक्सी अपार्टमेंट में आज भी अपने माता-पिता के साथ रहते हैं। एक बेटे और बड़े भाई की तरह सबका ध्यान रखते हैं। देश के दूर-दराज़ इलाकों में रह रहे मध्यम वर्ग और निम्न मध्यम वर्ग को सलमान का यह रूप सुहाता है। पारिवारिक मूल्यों और संस्कारों को जीता एक सुपरस्टार आसानी से उनका आदर्श बन जाता है। 'हम आपके हैं कौन' जैसी फ़िल्में सलमान की शख्सियत के इस पहलू के असर को गहरा करती हैं। कुछ साल पहले सलमान ने एक इंटरव्यू में कहा भी था- ''वो लोग मुझमें अपनी झलक देखते हैं। ऐसे लोग हैं जो स्टार बनना चाहते है।'' मध्यमवर्गीय मूल्यों के साथ सुपरस्टार बने रहना आसान नहीं होता। 

'फिटनेस से पहुंचे फैंस के क़रीब'

सलमान ने बड़ी तादाद में देश के युवा को प्रभावित किया। हिंदी सिनेमा के वो पहले सुपरस्टार हैं, जिसने युवाओं के बड़े वर्ग को जिम का रास्ता दिखाया और उसे सेहतमंद फिज़ीक बनाने के लिए प्रेरित किया। नब्बे के दशक में जब एक्शन फ़िल्मों को बोलबाला था और इंडस्ट्री में एक्शन हीरोज़ की एक नई पीढ़ी अंगड़ाई ले रही थी, उस वक़्त देश का युवा फिज़िकल फिटनेस के लिए सलमान को आदर्श मानता था। सलमान ने ख़ुद भी अपनी इस ऑनस्क्रीन इमेज से समझौता नहीं किया। निजी ज़िंदगी में उनका चाहे जैसा वक़्त चल रहा हो, मगर फिटनेस के लिए सलमान के समर्पण ने उन्हें फैंस से जोड़े रखा। यही कुछ वजह हैं कि तमाम विवादों के बावजूद सलमान के चाहने वाले कम नहीं होते।

यह भी पढ़ें: सलमान ख़ान के इस रिकॉर्ड के आस-पास भी नहीं आमिर, शाह रुख़ और अक्षय

Posted By: Manoj Vashisth

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप