नई दिल्ली, जेएनएन। हंसल मेहता निर्देशित वेब सीरीज़ स्कैम 1992- द हर्षद मेहता स्टोरी से रातोंरात स्टार बने एक्टर प्रतीक गांधी की आने वाली फ़िल्म रावण लीला (भवाई) रिलीज़ से पहले विवादों में फंस गयी। रविवार को ट्विटर पर अरेस्ट प्रतीक गांधी भी ट्रेंड हुआ था, जिसके बाद मेकर्स ने फ़िल्म का शीर्षक बदलने का एलान किया है। फ़िल्म के निर्माता पेन इंडिया लिमिटेड ने एक स्टेटमेंट जारी करके बताया कि शीर्षक से रावण लीला हटा दिया गया है। फ़िल्म भवाई शीर्षक के साथ सिनेमाघरों में पहुंचेगी।

स्टेटमेंट में कहा गया है- हमारी फ़िल्म भवाई दो लोगों की काल्पनिक प्रेम कहानी है, जिनके नाम राजाराम जोशी और रानी हैं। फ़िल्म में राजाराम का किरदार प्रतीक गांधी निभा रहे हैं। वहीं, रानी के किरदार में ऐंद्रिता रे हैं। फ़िल्म का प्रोमो रावण लीला शीर्षक से जारी किया गया था, क्योंकि फ़िल्म का नायक नाटकों में रावण का किरदार निभाता है।''

प्रोमो के शीर्षक और कुछ संवादों को लेकर लोगों की चिंताओं का सम्मान करते हुए हम साफ़ करना चाहते हैं कि शीर्षक और संवाद अब फ़िल्म का हिस्सा नहीं हैं। लोगों की भावनाओं को देखते हुए उन्हें प्रोमो से भी हटा दिया गया है। रामायण और हिंदू संस्कृति के लिए हमारे मन में गहरा सम्मान है। फ़िल्म का कोई भी हिस्सा ऐसा नहीं है, जिससे लोगों की भावनाएं आहत हों।

स्टेटमेंट में आगे कहा गया है कि फ़िल्म को सेंसर बोर्ड ने U सर्टिफिकेट के साथ पास किया है। उम्मीद है कि इसके बाद लोगों की सभी शंकाएं, संदेह और फ़िल्म को लेकर ग़लतफ़हमियां दूर हो जाएंगी। 

क्या था विवाद

रावण लीला (भवाई) का ट्रेलर इसी महीने की शुरुआत में रिलीज़ किया गया था। इसमें प्रतीक गांधी के किरदार को रावण बनकर लीला करते हुए दिखाया गया था। सोशल मीडिया में इसको लेकर काफ़ी बवाल हुआ। यूज़र्स ने आरोप लगाया कि रावण का महिमामंडन करके भगवान राम और हनुमान का अपमान किया जा रहा है। बता दें, भवाई का निर्देशन हार्दिक गज्जर ने किया है। फ़िल्म एक अक्टूबर को सिनेमाघरों में रिलीज़ हो रही है।

Edited By: Manoj Vashisth