नई दिल्ली, जेएनएन। कोरोना वायरस की वजह से पिछले कई दिनों से सिनेमाघर बंद हैं और सरकार ने 30 जून तक इन्हें बंद रखने का फैसला किया है। सिनेमाघर बंद होने से फिल्म इंडस्ट्री को काफी नुकसान हो रहा है। अब केंद्र सरकार ने भी सिनेमाघरों को खोलने और फिल्म इंडस्ट्री का काम सुचारू रुप से शुरू करने को लेकर पहल की है। केंद्रीय सूचना और प्रसारण मंत्री श्री प्रकाश जावड़ेकर ने फिल्म प्रोड्यूसर्स एसोसिएशन, सिनेमा प्रदर्शकों और फिल्म उद्योग के प्रतिनिधियों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए बैठक की।

जावडे़कर द्वारा यह बैठक कोविड-19 के कारण इस उद्योग को हो रही समस्याओं पर चर्चा करने के लिए बुलाई गई थी, जिनके बारे में इन पक्षों की ओर से उन्‍हें अभिवेदन भेजे गए थे। जावडे़कर ने प्रतिनिधियों को संबोधित करते हुए इस तथ्य की सराहना की कि भारत में 9,500 से अधिक स्क्रीन केवल सिनेमा हॉलों के टिकटों की बिक्री के माध्यम से प्रतिदिन लगभग 30 करोड़ रुपये की राशि का सृजन करती हैं।

फिल्म इंडस्ट्री की ओर से की गई विशिष्ट मांगों पर बातचीत करते हुए जावड़ेकर ने कहा कि इंडस्ट्री की ओर से जिस राहत की मांग की गई है, वह वेतन सब्सिडी, तीन साल के लिए ब्याज मुक्त ऋण, करों और शुल्‍कों पर छूट, बिजली पर न्यूनतम मांग शुल्क और औद्योगिक दरों पर बिजली से छूट आदि जैसी वित्तीय राहत किस्‍म की है। सूचना एवं प्रसारण मंत्री ने प्रतिनिधियों को आश्वासन दिया कि आवश्यक कार्रवाई के लिए इन मुद्दों को संबंधित मंत्रालयों के समक्ष उठाया जाएगा।

निर्माण संबंधी गतिविधियों को फिर से शुरू करने के मामले पर जावड़ेकर ने कहा कि सरकार द्वारा मानक संचालन प्रक्रियाएं जारी की जा रही हैं। सिनेमा हॉल खोलने की मांग के संबंध में मंत्री ने प्रतिनिधियों को बताया कि जून में कोविड-19 महामारी की स्थिति को देखने के बाद इसकी पड़ताल की जाएगी। 

Posted By: Mohit Pareek

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस