नई दिल्ली, जेएनएन। दिग्गज एक्टर ओम पुरी भारतीय फिल्म जगत के ऐसे एक्टर रहे हैं, जिन्होंने कभी भी खुद को बॉलीवुड तक सीमित नहीं किया। उन्होंने भारत में कई भाषाओं में काम किया और अपने अभिनय का परिचय हर क्षेत्र में दिया। यह एक्टर कई बॉलीवुड फिल्मों में काम करने के साथ ही टीवी स्क्रीन पर भी दिखाई दिए। छोटे पर्दे पर काम कर चुके इस कलाकार ने भारतीय फिल्मों के साथ-साथ पाकिस्तानी, ब्रिटिश और हॉलीवुड फिल्मों में अपनी खास पहचान बनाई। खास बात ये है कि उन्होंने कॉमर्शियल फिल्मों के साथ इंडिपेंडेंट और आर्ट फिल्मों में भी कई ऐसे किरदार निभाए, जिनमें उनकी एक्टिंग देखकर हर कोई मंत्रमुग्ध है।

भारत में उन्हें पद्मश्री जैसे नागरिक सम्मान से सम्मानित किया गया, तो दूसरी ओर उन्हें ऑर्डर ऑफ ब्रिटिश एंपायर से भी सम्मानित किया गया। इसकी अहम वजह थी कि उनकी लोकप्रियता भारत में ही सीमित नहीं थी, उन्होंने अपने जीवन में कई हॉलीवुड भी की हैं। इन हॉलीवुड फिल्मों में भले ही उनका किरदार छोटा या कम देर का रहा हो, लेकिन उन्होंने इस हिस्से से भी लोगों का दिल जीत लिया।

समानांतर सिनेमा से लेकर व्यावसायिक सिनेमा में अपने एक्टिंग की गहरी छाप छोड़ चुके ओम पुरी बचपन में जिस घर में रहते थे उसके पीछे एक रेलवे यार्ड था। रात के समय ओम पुरी घर से भागकर ट्रेन में सोने चले जाते थे। उन्हें ट्रेन से बड़ा लगाव था। ओम पुरी ने दिल्ली के नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा से एक्टिंग सीखी, जहां एक्टर नसीरुद्दीन शाह उनके सहपाठी हुआ करते थे। ओम पुरी ने साल 1976 में मराठी फ़िल्म 'घासीराम कोतवाल' से डेब्यू किया।

इसके बाद उन्होंने कई ऐसी फिल्मों में काम किया, जिन्हें नेशनल अवॉर्ड मिला था। उनकी बेहतरीन फिल्मों को याद किया जाए तो इसकी लिस्ट काफी लंबी हो सकती है। ओमपुरी ऐसे अभिनेताओं में से एक हैं जिन्होंने अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर भी अपनी पहचान बनाई। 'ईस्ट इज ईस्ट', 'सिटी ऑफ ज्वॉय', 'वुल्फ', 'द घोस्ट एंड डार्कनेस' जैसी हॉलीवुड फ़िल्मों में भी उन्होंने अपने उम्दा अभिनय की छाप छोड़ी है। ऐसे में जानते हैं कि उनकी हॉलीवुड फिल्मों के बारे में...

सिटी ऑफ जॉय

1992 में ही ओमपुरी हॉलीवुड फिल्म में नज़र आ गए थे। यह फिल्म Dominique Lapierre के लिए एक उपन्यास सिटी ऑफ जॉय पर ही आधारित थी। इसका फिल्म का प्लॉट भारत में गरीबी को लेकर था और इस फिल्म में ओमपुरी के साथ शबाना आज़मी भी नज़र आई थीं।

द घोस्ट एंड द डार्कनेस

1996 में आई यह फिल्म Tsavo Man-Eaters की कहानी का फिक्शन वर्जन था। इस फिल्म को रिलीज होने के बाद क्रिटिक्स का मिलाजुला रिस्पॉन्स मिला था, लेकिन इस फिल्म को बाद में साउंड एडिटिंग के लिए ऑस्कर पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। इस फिल्म में पुरी ने एक गांव वाले का किरदार निभाया था, जिसका नाम अब्दुल्ला होता है।

द हंड्रेड -फुट जर्नी

2014 में आई फिल्म द हंड्रेड-फुट जर्नी में ओमपुरी नज़र आए थे। फिल्म एक अमेरिकन कॉमेडी ड्रामा फिल्म थी, जिसमें ओमपुरी ने पापा कदम का किरदार निभाया था।

चार्ले विल्सनस वॉर

2007 में आई इस फिल्म में टॉम हैंक्स और जूलिया रॉबर्ट्स अहम किरदार में थे। इस फिल्म में ओमपुरी ने पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति जिया उल हक का किरदार निभाया था। इस फिल्म की काफी सराहना हुई और यहां तक एकेडमी अवॉर्ड्स में फिल्म को नॉमिनेशन मिला था।

माय सन द फनाटिक

ब्रिटिश रोमांटिक-ड्रामा फिल्म में ओमपुरी में नज़र आए थे, जो साल 1997 में रिलीज हुई थी। इस फिल्म में ओमपुरी ने टेक्सी ड्राइवर का किरदार निभाया था, जो कड़ी मेहनत करता है। इस फिल्म के लिए उन्हें Brussels International Film Festival में बेस्ट एक्टर के अवॉर्ड से सम्मानित भी किया गया था।

ईस्ट इज ईस्ट

199 में आई इस फिल्म में भी ओमपुरी नज़र आए थे। यह एक कॉमेडी ड्रामा फिल्म थी, जिसे बेस्ट फिल्म, स्टोरी, स्क्रीनप्ले और डायरेक्शन के लिए कई अवॉर्ड मिले थे। इस फिल्म की एक सीक्वल फिल्म भी है, जिसका नाम है वेस्ट इज वेस्ट। इनके अलावा भी कई हॉलीवुड फिल्में हैं, जिनमें ओमपुरी ने एक्टिंग से लोगों को चौंका दिया था।  

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस