मुंबईl रीमा दास के निर्देशन में बनी फिल्म विलेज रॉकस्टार्स ऑस्कर के रेस से बाहर हो गई हैl गौरतलब है कि इस फिल्म को भारत की आधिकारिक विदेशी भाषा के अंतर्गत ऑस्कर के लिए नामित किया गया थाl

नॉर्वे की फिल्म ‘व्हाट विल पीपल से’ जिसका निर्देशन इरम हक ने किया है उस फिल्म को आगे के कॉम्पिटिशन के लिए चुन लिया गया हैl एकेडमी ऑफ मोशन पिक्चर्स आर्ट्स एंड साइंस ने सोमवार को घोषणा की कि 9 फिल्में विदेशी भाषा फिल्म कैटेगरी में आगे बढ़ी है जिसमें फिल्म विलेज रॉकस्टार्स नहीं हैl गौरतलब है कि विलेज रॉकस्टार रीमा दास के खुद की गांव की कहानी हैl जहां पर गरीब लेकिन जीवन से अमीर बच्चों की कहानी को हंसी-खुशी जीवन को दर्शाया गया हैl अब तक भारत की ओर से मदर इंडिया, सलाम बॉम्बे और लगान ही ऐसी फिल्में रही है, जो बेस्ट फॉरेन लैंग्वेज कैटेगरी के टॉप 5 तक पहुंच पाई है लेकिन अभी तक किसी को भी यह पुरस्कार प्राप्त नहीं हुआ हैl

गौरतलब है कि रीमा दास ने उनकी यह फिल्म चार वर्षों में 25 लाख रुपयें की लागत से बनाई l  91वें ऑस्कर फिल्म पुरस्कार अगले साल 24 अप्रैल को लॉस एंजिलिस के कोडक थियेटर में दिए जायेंगे l रीमा दास की फिल्म विलेज रॉकस्टार्स दस साल की एक बच्ची की कहानी है, जिसका सपना एक रॉक बैंड बनाने का होता है l बनिता दास ने इस लड़की का किरदार निभाया है जो बैंड बनाने के लिए गाँव के एक इलेक्ट्रानिक गिटार की खोज में निकल पड़ती है l कलारदिया गाँव में हैंडकैम से शूट की गई और बिना किसी नामी कलाकारों के बनाई गई इस फिल्म का बजट बेहद ही मामूली रहा l

बांग्लादेशी ने भी फिल्म ‘दूब: नो बेड ऑफ रोज़ेज’ को उस देश ने विदेशी भाषा की फिल्मों के सेक्शन में अपनी प्रविष्टि के रूप में भेजा था और वो भी बाहर हो गई । इस फिल्म में इरफ़ान खान ने न सिर्फ़ लीड रोल किया बल्कि फिल्म के को-प्रोड्यूसर भी हैं। फिल्म को मुस्तफ़ा सरवर ने बनाया है।ऐसा कहा गया कि ‘दूब: नो बेड ऑफ रोज़ेज’, बांग्लादेसी लेखक हुमायूं अहमद के जीवन पर आधारित फिल्म है। उन्होंने अपनी पहली पत्नी को तलाक दे कर 33 साल छोटी अभिनेत्री से शादी कर ली थी। हुमायूं की पत्नी और अभिनेत्री मेहर अफरोज़ ने वहां की सरकार को बताया था कि ये फिल्म उनके पति के जीवन के कुछ हिस्से से मिलती जुलती है। हुमायूं अब इस दुनिया में नहीं हैं। इरफ़ान, नुसरत इमरोज़ और पर्णों मित्रा स्टारर ये फिल्म पिछले साल शंघाई फिल्म फेस्टिवल में दिखाई गई थी।

यह भी पढ़ें: #MeToo पर बोलने से कन्नी काट गईं सारा अली खान, आख़िर क्यों

Posted By: Manoj Khadilkar

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप