मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

नई दिल्ली, जेएनएन। एक्ट्रेस और फिल्ममेकर भारत में होते स्किन कलर के भेदभाव को मिटाने के लिए एक गाना 'इंडिया गोट कलर' लेकर आई हैं। इससे पहले भी नंदिता दास ने रंग के भेदभाव के लिए 2013 में 'डार्क इज ब्यूटिफुल' नाम के कैंपेन की शुरुआत की थी। डायरेक्टर महेश मथाई के साथ बन रहे इस दो मिनट के गाने से उनके कैंपेन को फिर एक बार रोशनी की किरण मिल गई है।

नंदिता दास के साथ इस गाने में बॉलीवुड एक्टर अली फज़ल, कोंकना सेनशर्मा, राधिका आप्टे, गुल पनाग, दिव्या दत्ता, तिलोतमा शोमे, सयानी गुप्ता, तनिष्ठा चटर्जी भी नज़र आने वाली हैं। इस गाने की शूटिंग पूरी हो चुकी है फिलहाल 'इंडिया गोट कलर'  का पोस्ट प्रोडक्शन चल रहा है।

यह भी पढ़ें: Kamya Panjabi Wedding: तलाक के 7 साल बाद काम्या पंजाबी को मिला प्यार, इस बिजनेसमैन से करेंगी शादी

 

 

 

 

View this post on Instagram

 

 

 

 

 

 

 

 

 

Manto screening at the Tokyo university. I also introduced the audience to a younger cast member 😊

A post shared by Nandita Das (@nanditadasofficial) on

आपको बता दें कि नंदिता दास साल 2013 में 'डार्क इज़ ब्यूटीफुल' कैंपेन का हिस्सा बनी थीं, जिसमें भारत में हो रहे स्किन कलर के भेदभाव को रोकने के लिए काम किया जाता है। मुंबई मिरर की रिपोर्ट के अनुसार नंदिता ने बताया 'हम अक्सर ये सुनते हैं कि उसका रंग साफ है, जैसे डार्क रंग बुरा है, बॉलीवुड में अगर आपका रंग डार्क है तो आप एक गांव की लड़की का किरदार या बस्ती में रहने वालों का किरदार निभाने के लिए ठीक हैं, मगर एक शहरी इंसान की भूमिका के लिए आपको हमेशा फेयर स्किन का होना पड़ेगा'।

आगे नंदिता ने बताया, 'मुझसे कई बार शूटिंग के दौरान मेकअप आर्टिस्ट ने कहा कि हम आपको आराम से गोरा बना देंगे, यहां तक कि मुझसे डायरेक्टर और कैमरामैन ने भी कहा कि अच्छा होगा अगर में अपनी स्किन को गोरा कर लूं'।

नंदिता दास एक भारतीय एक्ट्रेस और डायरेक्टर हैं वे अब तक 40 से ज्यादा फीचर फिल्मों का हिस्सा रह चुकी हैं। 1996 में आई फिल्म 'फायर' और 1998 में आई आमिर खान स्टारर फिल्म 'अर्थ' के लिए उन्हे काफी सराहना मिली थी।

Posted By: Ifat Qureshi

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप