नई दिल्ली, जेएनएन। बॉलीवुड फिल्मों में केवल 17 साल की उम्र में डेब्यू करने वाली करिश्मा कपूर ने अपनी एक्टिंग स्टाईल और डांस से एक नई छाप छोड़ दी थी। करिश्मा को हमेशा से ही लाइट्स और कैमरों को देखकर पता था कि पूरे परिवार की तरह उन्हें भी एक दिन फिल्मों की दुनिया में कदम रखना है। हाल ही में एक्ट्रेस करिश्मा कपूर ने इंटरव्यू के दौरान बताया कि जब उन्होंने फिल्मों मे आने की ठानी तो उऩ्हें दादा राज कपूर द्वारा क्या सलाह मिली थी।

ह्यूमन्स ऑफ बॉम्बे को दिए एक इंटरव्यू में करिश्मा कपूर ने एक्टर राज कपूर पर बात करते हुए बताया, मैं अकसर अपने दादा के सेट पर जाया करती थी, और उनका टैलेंट मेरे लिए यादगार रहता था, एक बार में उनकी फिल्म राम तेरी गंगा मैली के सेट पर भी गई थी, मुझे सेट, कैमरा और लाइट काफी पसंद थे, मैं जानती थी कि मुझे भी एक एक्टर बनना है और अपनी फैमिली की लेगेसी को आगे ले जाना है।

 

 

 

 

 

 

 

 

View this post on Instagram

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

“Growing up, I used to visit my granddad on set—& his talent would leave me mesmerised. Once I was there when he was directing ‘Ram Teri Ganga Maili’. I loved the sets, camera & lights! I knew I wanted to become an actor & contribute to the family legacy. When I told my granddad, he said, ‘It’s glamourous but it’s not a bed of roses—you will have to work very hard.’ That stayed with me. I wanted to act but my inner voice made me doubt myself. But what motivated me, was how grounded my mom kept me. Despite being from an ‘illustrious’ family, she made us live a simple life. My sister & I travelled by school bus & went to college by local trains. My mom taught me how to stick to my roots & still be confident. She knew about my passion for acting & about my hesitation. I didn’t want to falter & let anybody down. But she said that until I try, I’d never know. That’s when I signed my first film—a remake of a South Indian movie! While shooting, I gave my best. I had to ‘make it’ or ‘break it’. And the movie was a success! As my career progressed, there were highs & lows. I had done a song, ‘Sexy Sexy’—I’d worked hard & even hurt my knees for it. I was appreciated for my dance, but people thought the song was way ahead of its time—the word ‘Sexy’ wasn’t common back then. But that’s when my mom said that it’s an actors job to entertain. I can’t let one roadblock affect it. Even on the bad days I had to keep my head held high. So even when I was offered ‘Dil Toh Pagal Hai’, when no actress wanted to be cast against Madhuri Dixit. I didn’t want to shy away because ‘I thought I couldn’t do it’. I did the film & even won a National Award for it! From then on, whenever I’ve wondered if I was capable enough—be it in my choice of films, being a single mom or in my relationships with people, I’ve never let my doubts get the better of me. We live in a world where there will always be roadblocks, people to bog you down & things that may not work out. That’s why you have to be your biggest strength & not let your voice, at any point, become your weakness.” — HoB with POND'S encourages women to overcome their inhibitions & #SeeWhatHappens when they let go of their inner voices.

A post shared by Humans of Bombay (@officialhumansofbombay) on

फिल्म प्रेम कैदी से 1991 में अपना बॉलीवुड डेब्यू करने वाली करिश्मा कपूर ने आगे कहा, जब मैंने अपने दादा राज कपूर से ये कहा तो उऩ्होंने कहा, ये बहुत ग्लैमरस है लेकिन ये गुलाबों से सज़ा हुआ बिस्तर नहीं है, तुमको बहुत ज्यादा मेहनत करनी पड़ेगी। उनकी ये बात मुझे अब भी याद है, मैं एक्टंग करना चाहती थी लेकिन मेरी अंतरआत्मा मुझे रोक रही थी।

यह भी पढ़ें: स्मिता पाटिल: कम काम किया, लेकिन ऐसा कि दुनिया देखती रह गई! निधन के बाद भी रिलीज हुई थीं कई फिल्में

आगे करिश्मा कहती हैं, मेरी मां ने मुझे काफी ग्राउंडेड रहना सिखाया है यही है जो मुझे मोटिवेट करता है, उन्होंने हमें सिंपल लाइफ दी है, मैं और करीना हमेशा से ही स्कूल बस से जाते थे, कॉलेज भी हम ट्रेन से ही गए हैं, मैंने हमेशा से ही अपना बेस्ट दिया है, फिर आखिरकार फिल्में हिट हुईं।

Posted By: Ifat Qureshi

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप