मुंबई। दावोस में हर साल वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम की बैठक होती है जिसमें दुनियाभर के नेता, बड़े-बड़े उद्योगपति और फिल्म कलाकार शामिल होते हैं। इस साल भी वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम 2019 की बैठक हुई जिसमें बॉलीवुड जगत से भी कलाकार शामिल हुए हैं। इसमें एक नाम मशहूर फिल्ममेकर करण जौहर का भी है। फिल्ममेकर करण जौहर पिछले दिनों दावोस में थे जहां पर वे वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम की बैठक में हिस्सा लेने पहुंचे थे। यहां पर उन्होंने ग्लोबलाइजेशन 4.0 को लेकर अपनी बात रखी थी। करण ने बताया है कि पीएम मोदी ने इस प्रकार की वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम भारत की फिल्म इंडस्ट्री में भी होने का सुझाव दिया था। 

करण जौहर ने दावोस में बॉलीवुड को वर्ल्ड इकोनॉमिस फोरम में रिप्रेजेंट किया। हर साल स्विट्जरलैंड, दावोस में होने वाले वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम में करण जौहर के तीसरी बार आमंत्रित किया गया था। फिल्ममेकर और प्रोड्यूसर करण जौहर ने ग्लोबलाइजेशन 4.0 को लेकर अपने विचार व्यक्त किए। करण ने कहा कि, मैं बहुत सम्मानित महसूस कर रहा हूं कि बतौर कल्चरल लीडर यहां पर मुझे तीसरी बार बुलाया गया। यह बहुत अच्छी मीटिंग थी जिसमें आइडियाज़ का एक्सचेंज हुआ। वर्ल्ड क्लास फोरम में बातचीत करना बहुत अच्छा रहा। इस साल भी बहुत अच्छा लगा क्योंकि मैं दो पेनल का हिस्सा रहा था। जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी हाल ही में हिंदी फिल्म इंडस्ट्री के कलाकारों से मिले थे तो उन्होंने यह सुझाव दिया था कि इंडियन सिनेमा को डब्लूईएफ (WEF) समिट आयोजित करना चाहिए। फोरम में अपने विचार व्यक्त करते हुए करण ने इस बार पर जोर दिया इस प्रकार की वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम में आवश्यकता भारत को भी है। 

हाल ही में करण जौहर ने सोशल मीडिया पर दावोस से कुछ तस्वीरों को शेयर भी किया था। इस तस्वीर को शेयर करते हुए करण जौहर ने लिखा था कि दावोस में हूं वर्ल्ड इकोमॉनिक फोरम के लिए। एक्साइटिंग दिन रहा है। ग्लोबल अवेयरनेस को लेकर आइडिया शेयर किए।

 

 

 

 

 

 

 

 

View this post on Instagram

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

Off to a session! Details to follow! Large cape jacket drama! @edwardcrutchley styled by @nikitajaisinghani 📷 @len5bm #wef #davosdiaries #winterfashion

A post shared by Karan Johar (@karanjohar) on

आपको बता दें कि, दावोस, स्विटजरलैंड का बहुत ही खूबसूरत शहर है जो खासतौर से विंटर स्पोर्ट्स के लिए दुनियाभर में मशहूर है। यहां कोने-कोने से लोग स्कीइंग और स्नोबोर्डिंग के लिए पहुंचते हैं। 1560 मीटर की ऊंचाई पर स्थित ये यूरोप का सबसे ऊंचा शहर है। फिलहाल दावोस इन वजहों से अलग किसी और वजह से चर्चा में है। सरकारी, गैर-सरकारी व्यक्ति और संगठन किसी भी विषय पर एक साथ मिलकर फैसला लेते हैं।

यह भी पढ़ें: कपिल शर्मा ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से क्यों मांगी माफी, यह है खास वजह

यह भी पढ़ें: बेटी सारा के साथ काम करने को लेकर पापा सैफ ने खोला राज

  

 

Posted By: Rahul soni