नई दिल्ली, जेएनएन। भारतीय स्वतंत्रता संग्राम की कोई भी कहानी सरदार भगत सिंह के बिना अधूरी है। क्रांति और समाज को लेकर उनकी विचारधारा आज भी प्रासंगिक और नौजवानों के लिए प्रेरणादायी है। 28 सितम्बर को इस महान क्रांतिकारी की जयंती मनाई जाती है। हिंदी सिनेमा के वेटरन राइटर जावेद अख्‍तर ने ट्वीट करके आज की सियासत में उनके विचारों की प्रासंगिकता को लेकर सवाल उठाया, जिसका कंगना रनोट ने जवाब दिया। 

जावेद ने लिखा- ''कुछ लोग ना सिर्फ इस तथ्य को मानने से इनकार करते हैं, बल्कि दूसरों से छिपाते भी हैं कि शहीद भगत सिंह मार्क्‍सवादी थे और उन्‍होंने एक लेख लिखा था- मैं नास्तिक क्यों हूं। अनुमान लगा सकते हैं कि ये लोग कौन हैं। मुझे यह सोचकर हैरत होती है कि अगर आज वो (भगत सिंह) जिंदा होते तो ये लोग उन्हें क्या बुलाते।'' 

जावेद अख्‍तर के इस सवाल पर कंगना ने लिखा- ''मुझे भी आश्चर्य होता है कि अगर भगत सिंह जिंदा होते तो क्या प्रजातांत्रिक ढंग से अपने ही लोगों द्वारा चुनी हुई सरकार के खिलाफ विद्रोह करते या उसे सपोर्ट करते? अगर वो धर्म के आधार पर भारत माता को टुकड़ों में बंटा हुआ देखते तो भी क्या नास्तिक रहते या क्या अपना बसंती चोला पहनते?''

इससे पहले कंगना ने सरदार भगत सिंह को याद करते हुए उनकी एक फोटो शेयर करके लिखा था- मेरा रंग दे बसंती चोला। ओ मेरा रंग दे बसंती चोला। 

कंगना इन दिनों कई कारणों से लगातार सुर्खियों में हैं। सुशांत सिंह राजपूत की मौत के बाद कंगना ने बॉलीवुड में वंशवाद का मुद्दा उठाया था। उन्होंने कई सेलेब्रिटीज पर सीधे हमला बोला। पिछले दिनों शिव सेना सांसद संजय राउत से जुबानी जंग को लेकर भी कंगना खबरों में रहीं। बीएमसी ने मुंबई स्थित उनके दफ्तर में अवैध निर्माण को लेकर तोड़फोड़ की, जिसको लेकर काफी हंगामा हुआ। वहीं, बॉलीवुड में ड्रग्स को लेकर भी कंगना लगातार ट्वीट कर रही हैं। (Photo- Mid Day)

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस